बीकानेर (हैलो बीकानेर न्यूज़)। राजनीति में कौनसा नेता कब किस पार्टी का हो जाये ये कहना मुश्किल है। एक समय था जब गोपाल गहलोत और हनुमान बेनीवाल दोनों एक साथ भाजपा में थे। वही आज गोपाल गहलोत निर्दलीय चुनाव लड़ रहे है वही हनुमान बेनीवाल ने अपनी नई पार्टी राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी बनाकर चुनाव लड़ रहे है।

[yop_poll id=”1″]

शनिवार देर रात को राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के संयोजक हनुमान बेनीवाल ने बीकानेर पश्चिम से निर्दलीय प्रत्याशी एवं दिग्गज नेता गोपाल गहलोत के पक्ष में हुंकार भरते हुए मतदाताओं से कहा कि वे अब कांग्रेस प्रत्याशी बी. डी. कल्ला और भाजपा प्रत्याशी गोपाल जोशी को आराम करने दें और गोपाल गहलोत को विजयी बनाकर विधानसभा भेजें। इस बार इनके विधानसभा पहुंचने के योग बन रहे हैं।

बेनीवाल ने करमीसर में निर्दलीय प्रत्याशी गोपाल गहलोत के पक्ष में अपना समर्थन देते हुए कहा कि कांग्रेस और भाजपा दोनों ही पार्टियों ने गोपाल गहलोत के साथ धोखा किया है, जबकि ये जमीन से जुड़े नेता है। बेनीवाल ने कहा कि गोपाल गहलोत मजबूत व्यक्ति हैं, और हमें भी ऐसे ही व्यक्ति पसंद है, इसीलिए मैं इतनी देर रात भी इनके लिए यहां आया हूं। बेनीवाल ने कहा कि मैं प्रदेश में व्यवस्था परिवर्तन की लड़ाई लड़ रहा हूं। यदि मुझे कोई राजनीतिक लोभ होता तो मैं पंद्रह साल पहले मंत्री बन सकता था, लेकिन मैंने वसुंधरा से लड़ाई लड़ी।
[yop_poll id=”2″]

बेनीवाल ने कहा कि चुनाव के बाद वसुंधरा लंदन चली जाएगी और कांग्रेस वेंटीलेटर पर। बेनीवल ने कहा कि हमने प्रदेश में किसानों के कर्जे का मुद्दा उठाया तो सरकार को पचास हजार रुपए कर्जमाफी की घोषणा करनी पड़ी। इसके बाद हमने बेरोजगारों के लिए प्रतिमाह दस हजार रुपए की घोषणा करके दबाव बनाया तो दोनों ही पार्टियों को अपने घोषणा पत्र में इसे शामिल करना पड़ गया।