1. बीकानेर पश्चिम उम्मीदवार-12, दल-8, निर्दलीय -4
भाजपा : डॉ. गोपाल जोशी कांग्रेस : डॉ. बीडी कल्ला निर्दलीय : गोपाल गहलोत (कांग्रेस बागी)बीकानेर पश्चिम की सीट पुष्करणा बाहुल्य सीट है इसलिए भाजपा-कांग्रेस ने यह पुष्करणा जाति के उम्मीदवारों को उतारा है। आपको बता दे की बहनोई जोशी और साले कल्ला में लगातार यह तीसरा मुकाबला है। पिछले दो मुकाबले में  ने जीते हैं। ब्राह्मण मतों में विभाजन से अन्य जातियां निर्णायक होंगी।

राजस्थान में किसकी सरकार बनेगी ?

2. बीकानेर पूर्व प्रत्याशी-22, दल-9, निर्दलीय -13
भाजपा: सिद्धीकुमारी कांग्रेस : कन्हैया लाल झंवर
ये सीट साल 2008 में बनी थी तब से राजघराने की भाजपा उम्मीदवार सिद्धी कुमारी बड़े अंतर से जीतती आई हैं। इस बार कांग्रेस ने बड़े वैश्य मतों को देखते हुए अशोक गहलोत और रामेश्वर डूडी के पसंद के झंवर को उतारा है। अल्पसंख्यक, अजा, जाट वोटरों से कांग्रेस को उम्मीद है तो भाजपा राजपूत, सिंधी, पंजाबी वोटरों के भरोसे हैं। कांग्रेस के बागी गोपाल गहलोत वोटों में सेंध लगाएंगे।

3. नोखा उम्मीदवार- 12, दल- 7, निर्दलीय – 5
भाजपा: बिहारी लाल बिश्नोई कांग्रेस : रामेश्वर डूडी
जिले की यह सीट सर्वाधिक चर्चित है। जाट नेता रामेश्वर डूडी मैदान में हैं। जाट बहुल सीट पर बिश्नोई भी बहुत हैं। जातीय आधार पर मतों का ध्रुवीकरण होगा। कन्हैया लाल झंवर के कांग्रेस में आकर बीकानेर पूर्व से उम्मीदवार बनने का लाभ डूडी को मिलेगा। वहीं, भानजी इंदु देवी उनके वोटों में सेंध लगाएंगी।

4. श्रीडूंगरगढ़ उम्मीदवार- 10, दल-10, निर्दलीय- 0
भाजपा: ताराचंद सारस्वत कांग्रेस : मंगलाराम गोदारा माकपा : गिरधारी महिया
जाट बहुल इस सीट पर कांग्रेस ने जहां जाट उम्मीदवार उतारा है, वहीं भाजपा ने ब्राह्मण को उतारकर गैर जाट मतों के ध्रुवीकरण की कोशिश की है। भाजपा का खेल बागी पूर्व विधायक नाई बिगाड़ रहे हैं। वे भारत वाहिनी पार्टी से चुनाव लड़ रहे हैं। वहीं कांग्रेस के सामने माकपा के गिरधारी महिया चुनौती खड़ी कर रहे हैं। इस चतुष्कोणीय मुकाबले ने स्थिति रोचक बना दी है।

5. खाजूवाला प्रत्याशी-8, दल-6, निर्दलीय -2
भाजपा: डॉ. विश्वनाथ मेघवाल कांग्रेस : गोविंद राम मेघवाल
अजा वर्ग के लिए आरक्षित इस सीट पर पुराने प्रतिद्वंदी डॉ. विश्वनाथ मेघवाल और गोविंद राम मेघवाल फिर आमने-सामने हैं। अजा वर्ग के मतों में विभाजन होने के कारण जाट, राजपूत और अल्पसंख्यक मतदाता यहां हार-जीत तय करेंगे। जिले की यह इकलौती सीट है जिस पर डूडी, मेघवाल और भाटी फैक्टर, एक साथ प्रभावित करेंगे।

6. लूणकरणसर प्रत्याशी-11, दल-8, निर्दलीय-3
भाजपा : सुमित गोदारा कांग्रेस : वीरेंद्र बेनीवाल
जाट बाहुल्य सीट पर भाजपा और कांग्रेस ने जाट उम्मीदवार उतारे हैं। पिछली बार भी दोनों अामने-सामने थे और गैर जाट मतों का ध्रुवीकरण करके निर्दलीय मानिक चंद सुराना चुनाव जीत गए। इस बार भी ब्राह्मण समुदाय से प्रभुदयाल सारस्वत खड़े हैं। जो दोनों दलों का समीकरण बिगाड़ रहे हैं। उनको मिलने वाले मत ही हार-जीत का निर्धारण करेंगे।

7. श्रीकोलायत प्रत्याशी-13, दल-8, निर्दलीय-5
भाजपा : पूनम कंवर (देवीसिंह भाटी की पुत्रवधू) कांग्रेस : भंवर सिंह भाटी
सात चुनाव जीतकर पिछला चुनाव हारे देवीसिंह भाटी ने चुनाव लड़ने से मना किया तो भाजपा ने उनकी पुत्रवधू पूनम कंवर को मैदान में उतारा है, जो दिवंगत सांसद महेंद्र सिंह की पत्नी है। कांग्रेस ने मौजूदा विधायक भंवर सिंह भाटी पर ही दाव लगाया है। यहां राजपूत मतों में विभाजन होगा इसलिए हार-जीत अन्य जातियां तय करेंगी।

रा.वि.चु. 2018 में बीकानेर पश्चिम में इस बार कौनसी पार्टी जीतेगी ?