हैलो बीकानेर।  एमजीएसयू के सेंटर फॉर वूमन स्टडीज की डायरेक्टर डॉ मेघना शर्मा को श्री नटनागर शोध संस्थान, सीतामऊ,  मालवा, मध्य प्रदेश की  “भारतीय संदर्भ में पर्यावरण,  अर्थव्यवस्था और समाज (युग युगीन)” विषय पर आयोजित त्रिदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी के उद्घाटन समारोह में मध्य प्रदेश शासन की महिला एवं बाल विकास मंत्री अर्चना चिटणीस द्वारा सम्मानित किया गया । कार्यक्रम की अध्यक्षता जनार्दन राय नागर राजस्थान विद्यापीठ, उदयपुर के कुलपति मेजर प्रो. एस.एस. सारंगदेवोत ने की। मुख्य अतिथि अर्चना चिटणीस ने अपने उद्बोधन में कहा कि न सिर्फ समाज के उत्थान बल्कि पर्यावरण संरक्षण के क्षेत्र में भी महिलाओं का योगदान उल्लेखनीय है।  डॉ मेघना शर्मा ने संगोष्ठी के द्वितीय तकनीकी सत्र की अध्यक्षता करते हुए कहा कि इतिहास व भारतीय ग्रंथ इस बात के गवाह हैं कि युगों युगों से  पर्यावरण संरक्षण को लेकर बहुत ही सजग रहे हैं किंतु आधुनिक काल में यह चेतना लगातार घटी है।

 इससे पूर्व स्वागत भाषण मालवा के महाराज कुमार डाॅ. रघुवीर सिंह जी  के वंशज श्री पुरंजयसिंह राठौड़ द्वारा पढ़ा गया । कार्यक्रम के दौरान प्रतिष्ठित  डाॅ. रघुवीर सिंह राष्ट्रीय पुरस्कार सम्मान -2017 जेएनयू के पूर्व प्रोफेसर प्रो. दिलबागसिंह को दिया गया। इसी समारोह में इतिहास विषय की कई नई पुस्तकों का लोकार्पण भी अतिथिगणों द्वारा किया गया। संगोष्ठी में देशभर के लब्ध प्रतिष्ठित इतिहासकार व शोधार्थी भारी संख्या मे उपस्थित रहे। बीकानेर की कवयित्री-कथाकार डाॅ. मेघना ने उद्घाटन समारोह  संयोजन किया।अंत में संस्था सचिव डाॅ. मनोहर सिंह राणावत ने धन्यवाद ज्ञापन प्रस्तुत किया।

LEAVE A REPLY