Websity

बीकानेर hellobikaner.com कोरोना वायरस के संक्रमण की संभावनाओं का समाप्त करने के लिए राज्य सरकार के आदेश पर प्रदेश भर में किए गए लाॅक डाउन के बीच जिला कलक्टर कुमार पाल गौतम ने कहा कि लाॅक डाउन के दौरान उद्यमी अपने कार्मिकों के साथ मानवता की मिसाल बने और उदाहरण प्रस्तुत करते हुए उन्हें आर्थिक सम्बलन दें।

जिला कलक्टर ने सोमवार को जिले के सभी बड़े औद्योगिक प्रतिष्ठान प्रतिनिधियों तथा उद्यमियों के साथ नगर विकास न्यास सभागार में बैठक की और कहा कि वर्तमान में मानवता एक बड़े स्वास्थ्य संकट से गुजर रही है। इस संक्रमण को रोकने के लिए सार्वजनिक और गैर जरूरी प्रतिष्ठानों के कार्य को राज्य सरकार ने 31 मार्च तक बंद रखवाने का निर्णय किया है। लाॅकडाउन ऐहतियातन कदम है और सभी उद्यमियों को भी इसे समझते हुए सकारात्मक और कार्मिकों के हित में निर्णय लेने की आवश्यकता है।

उन्होंने कहा कि औद्योगिक प्रतिष्ठान अपने यहां किसी भी कार्मिक की छंटनी ना करें। कोई भी कार्मिक अपनी मर्जी से काम पर नहीं आ पा रहा है बल्कि वह भी एक संकट से उबरने में प्रशासन की मदद कर रहा है इस भावना को ध्यान में रखते हुए उद्यमी वर्करों की परिस्थितियों को समझे। गौतम ने कहा कि जब स्थितियां सुधरेगी और फैक्ट्रियों में कार्मिक काम पर लौटेंगे तो अपने मालिकों के इस सकारात्मक व्यवहार से वे अतिरिक्त उर्जा और क्षमता से और बेहतर परिणाम देंगे।

जिला कलक्टर ने कहा कि सभी उद्यमी लाॅक डाउन के दौरान फैक्ट्रियां बंद रखें और कोरोना वायरस संक्रमण की श्रृंखला को तोड़ने में अपनी भूमिका निभाए। जिला कलक्टर ने कहा कि जान है तो जहान है इसी आधार पर काम करते हुए समाज का प्रत्येक वर्ग दूसरे वर्ग के साथ सहयोग करें और पूरी दुनिया के सामने अपनी एकजुटता की मिसाल प्रस्तुत करें।