हैलो बीकानेर न्यूज़ । अवैध गर्भपात के खतरनाक गोरखधंधे का भांडा फोड़ करते हुए चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग ने 3 दिन में 2 बड़ी कार्यवाहियां कर एक गायनेकोलोजिस्ट और एक पूर्व एलएचवी को रंगे हाथों पकड़ लिया है जबकि एक दलाल मनोज शर्मा उर्फ मोंटी फरार है। तीनों के खिलाफ राज्य पीबीआई थाने में एफआईआर दर्ज करवाकर कानूनी कार्यवाही शुरू कर दी गई है। स्वास्थ्य सचिव एवं मिशन निदेशक एनएचएम नवीन जैन के नेतृत्व में अवैध गर्भपात के विरुद्ध शुरू किए गए बड़े अभियान के तहत पिछले एक सप्ताह से एमटीपी एक्ट 1971 में अपंजीकृत संस्थानों व व्यक्तियों की धरपकड़ और छापामारी जारी है। साथ ही अवैध रूप से पिल्स के माध्यम से खतरनाक गर्भपात करवाने वाले मेडिकल स्टोर्स पर भी सघन निरिक्षण किया जा रहा है।
 
रविवार को डिकॉय ऑपरेशन द्वारा एक पूर्व एलएचवी दुर्गा राजपूत व मंगलवार को सार्दुल कॉलोनी, बीकानेर स्थित मोदी क्लिनिक पर छापामारी करते हुए गायनेकोलोजिस्ट डॉ. ओ.पी. मोदी को एक नाबालिग का गर्भपात करते हुए रंगे हाथ पकड़ा गया।
मिशन निदेशक एनएचएम नवीन जैन ने बताया कि मातृ मृत्यु पर लगाम लगाने और कन्या भ्रूण हत्या को समूल समाप्त करने के लिए भी एमटीपी एक्ट 1971 की शत प्रतिशत पालना अति आवश्यक है। 2012 में पीसीपीएनडीटी एक्ट द्वारा एमटीपी के सन्दर्भ में इस बाबत प्राप्त शक्तियों का उपयोग करते हुए अपंजीकृत संस्थानों व व्यक्तियों द्वारा अवैध गर्भपात के विरुद्ध राज्यभर में विशेष अभियान शुरू किया गया है जिसके तहत बीकानेर में ताबड़तोड़ 2 कार्यवाहियों को अंजाम दिया गया है। पहली कार्यवाही डिकॉय ऑपरेशन के माध्यम से रविवार 8 जुलाई को सीएमएचओ बीकानेर डॉ. देवेन्द्र चौधरी के नेतृत्व में दल गठित कर की गई। तय रणनीति के अनुसार इस कार्यवाही का खुलासा मीडिया में नहीं किया गया ताकि दूसरी कार्यवाही से पहले अपराधी को अलर्ट न मिले। इन दोनों कार्यवाहियों से विभाग ये स्पष्ट सन्देश देना चाहता है कि गर्भवतियों की जिन्दगी को किसी प्रकार से जोखिम में डालने वालों को बक्शा नहीं जाएगा।
पूर्व एलएचवी हर माह करती थी 10-15 एबॉर्शन
मिशन निदेशक जैन ने बताया कि बीकानेर पीसीपीएनडीटी सैल की मुखबिरी के आधार पर राज्य पीसीपीएनडीटी दल को साथ लेते हुए सीएमएचओ बीकानेर डॉ. देवेन्द्र चौधरी  के नेतृत्व मे गठित दल द्वारा रविवार को डिकॉय ऑपरेशन को अंजाम दिया गया। दलाल मनोज शर्मा उर्फ मोंटी के बताए अनुसार डिकॉय गर्भवती को लेकर सहयोगी महिला दोपहर सवा एक बजे डूडी पेट्रोल पम्प, जैसलमेर रोड़ के पास पहुँच गई जहां प्राप्त निर्देशों अनुसार वे करणी मेडिकल एंड जनरल स्टोर, कान गणेश मंदिर के पास पहुंची दलाल मोंटी वहां नहीं पहुंचा लेकिन वहां पूर्व एलएचवी नर्स दुर्गा राजपूत उनका इंतजार करती मिली। जैसा कि दलाल ने बताया दुर्गा राजपूत हर माह 10 से 15 एबॉर्शन करती थी दुर्गा को तय राशि 10,000 रूपए मिलते ही उसने गर्भवती को स्ट्रेचर पर लिटाकर एबॉर्शन की तैयारी शुरू कर दी। सहयोगी महिला द्वारा मिस्ड कॉल का इशारा पाते ही बीकानेर सीएमएचओ, डिप्टी सीएमएचओ डॉ. राधेश्याम वर्मा, पीसीपीएनडीटी समन्वयक महेंद्र सिंह चारण, सीकर पीसीपीएनडीटी समन्वयक नन्दलाल पूनिया व जयपुर मुख्यालय के पीसीपीएनडीटी समन्वयक विक्रम सिंह चम्पावत के दल ने मौके पर पहुँच कर आरोपी से नम्बरी नोट बरामद कर अपंजीकृत व अवैध रूप से गर्भपात के मामले का भांडा फोड़ कर दिया।
नाबालिग का अवैध गर्भपात करते धरा गया गायनेकोलोजिस्ट
मिशन निदेशक जैन ने बताया कि विभिन्न सूत्रों से प्राप्त सूचना के आधार पर सीएमएचओ बीकानेर के नेतृत्व में गठित दल द्वारा मंगलवार को दिन में सवा 11 बजे सार्दुल कॉलोनी स्थित मोदी क्लिनिक पर दबिश दी जहां गायनेकोलोजिस्ट डॉ. ओ.पी. मोदी बाप, जिला जोधपुर निवासी एक 15 वर्षीय नाबालिग जो कि साढ़े पांच माह से गर्भवती थी, का अवैध एबॉर्शन करते रंगे हाथ पकड़े गए। दल में बीकानेर सीएमएचओ डॉ.देवेन्द्र चौधरी, डिप्टी सीएमएचओ डॉ. राधेश्याम वर्मा, पीसीपीएनडीटी समन्वयक महेंद्र सिंह चारण, सीकर पीसीपीएनडीटी समन्वयक नन्दलाल पूनिया व जयपुर मुख्यालय के पीसीपीएनडीटी समन्वयक विक्रम सिंह चम्पावत शामिल रहे।