Websity

जयपुर hellobikaner.com मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कोरोना महामारी से निपटने के लिए प्रदेशवासियों से सहयोग की अपील की है। उन्होंने कहा कि ऎसे लोग जिनकी ट्रेवल हिस्ट्री रही है तथा जिनमें इस रोग के लक्षण प्रतीत होते हैं, वे स्वयं को छिपाएं नहीं।

तुरंत इसका टेस्ट कराएं। उन्होंने दिल्ली में तबलीगी जमात के संपर्क में आने के बाद प्रदेश के विभिन्न जिलों में पहुंचे लोगों से भी अपील की है कि वे संबंधित जिलों के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी से संपर्क कर तुरंत अपना परीक्षण कराएं। यह उनके खुद के जीवन के साथ ही पूरी मानवता, समाज एवं देश के हित में है।

गहलोत गुरूवार शाम को मुख्यमंत्री निवास पर कोरोना को लेकर उच्च स्तरीय समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग को निर्देश दिए कि प्रदेश के सभी जिलों में रैंडम सर्वे के आधार पर टेस्ट कराए जाएं। इससे रोग की वास्तविक स्थिति जानने में मदद मिलेगी। इसमें उन सभी लोगों को शामिल किया जाए जिनकी ट्रेवल हिस्ट्री रही हो तथा जिनमें इस रोग के प्रारंभिक लक्षण हों। साथ ही ऎसे स्थान जहां पर्यटकों की आवाजाही अधिक रही है, उन पर इस सर्वे में अधिक फोकस किया जाए।

मुख्यमंत्री गहलोत का महत्वपूर्ण निर्णय : बिजली-पानी के दो माह के बिल होंगे स्थगित, औद्योगिक प्रतिष्ठानों…

मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी प्रदेशवासियों को चाहिए कि वे पूजा-पाठ, उपासना, नमाज, प्रेयर (प्रार्थना) आदि सभी धार्मिक कार्य घर पर ही करें। यह इस महामारी से बचाव के लिए जरूरी होने के साथ ही सम्पूर्ण मानव जीवन के हित में है। गहलोत ने कहा कि ऎसे समय में जबकि पूरे देश में लॉकडाउन प्रभावी है, इसके बावजूद दिल्ली में ऎसा आयोजन होना चिंताजनक है। ऎसे आयोजन की जानकारी मिलते ही तुरन्त रोकना चाहिए था चाहे विरोध का सामना भी करना पड़ता। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के उददेश्य को असफल करने वाले जिम्मेदार लोगों पर कार्रवाई होनी चाहिए।

बैठक में ऊर्जा मंत्री बी डी कल्ला, चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा, कृषि मंत्री लालचन्द कटारिया, मुख्य सचिव डीबी गुप्ता, अतिरिक्त मुख्य सचिव गृह राजीव स्वरूप, पुलिस महानिदेशक भूपेन्द्र सिंह, अतिरिक्त मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य रोहित कुमार सिंह सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।