हम रोज टीवी देखते है लेकिन आपको पता है की 28 दिसंबर के बाद अगर आप अपना टीवी देखेगे तो उसमे कुछ बदलाव दिखाई देगा आपको…. जी हां अब आप वो ही चैनल टीवी पर देख सकते है जिस टीवी चैनल को आप देखना चाहते है। बुधवार को 29 दिसंबर के बाद लागू होने वाले नए नियमों को लेकर स्पष्ट किया है कि इसकी वजह से टीवी सेवा बाधित नहीं होगी। यानी टेलीविजन पर मौजूदा सब्सक्राइब्ड चैनल ब्लैक आउट नहीं होंगे। 

यह स्पष्टीकरण ट्राइ ने इसलिए दिया है क्योंकि सोशल मीडिया पर एक मैसेज वायरल हो रहा है, जिसमें कहा गया है कि 29 दिसंबर के बाद टेलीविजन पर ब्लैकआउट हो सकता है। ट्राइ का कहना है कि रेग्युलेटर फ्रेमवर्क के लागू होने के बाद टीवी सेवा में कोई परेशानी नहीं आएगी। बता दें ट्राइ ने लोकल केबल ऑपरेटर्स और मल्टी सर्विस ऑपरेटर्स को 29 दिसंबर से नया टैरिफ सिस्टम लागू करने का आदेश दिया है।
क्या है नया सिस्टम?
ट्राई की ओर से कहा गया है कि नए सिस्टम में उपभोक्ताओं पर टीवी चैनल थोपे नहीं जा सकते हैं, बल्कि उन्हें केवल उन्हीं टीवी चैनलों को चुनने की आजादी होगी, जिन्हें वे देखना चाहते हैं और उसी के मुताबिक भुगतान भी करना होगा। सभी चैनल अलग-अलग और बुके के रूप में उपलब्ध होंगे, जिन्हें उपभोक्ता अपनी पसंद के अनुसार चुन सकता है। इलेक्ट्रॉनिक प्रोग्राम गाइड (EPG) के जरिए टीवी स्क्रीन पर हर चैनल की MRP लिखी होगी। कोई भी डिस्ट्रीब्यूटर ब्रॉडकास्टर की ओर से तय कीमत से अधिक नहीं ले सकता है।

हर महीने कितना खर्च?
नेटवर्क कपैसिटी फीस के रूप में ग्राहकों को हर महीने 100 चैनलों के लिए अधिकतम 130 रुपये देना होगा। यदि आप 100 से अधिक चैनल देखते हैं तो (हालांकि ऐसे ग्राहकों की संख्या महज 10-15 फीसदी है) अगले 25 चैनलों के लिए 20 रुपये अतिरक्त देने होंगे। इसके अलावा आप जो पे चैनल्स चुनेंगे उनकी तय कीमतें जुड़ जाएंगी। TRAI की ओर से चैनलों की प्राइस रेंज 1 से 19 रुपये के बीच तय है।

मुफ्त भी मिलेंगे चैनल? 
TRAI ने सभी सेवा प्रदाताओं से कहा है कि ग्राहकों को फ्री टु एयर (FTA) चैनल पूरी तरह मुफ्त दिखाने होंगे। इनके लिए उपभोक्ताओं से कोई शुल्क नहीं लिया जा सकता है। हालांकि, सभी FTA चैनल देना अनिवार्य नहीं है, यह उपभोक्ता पर निर्भर करता है कि वह किस-किस चैनल को चुनता है। दूरदर्शन के सभी चैनल दिखाना अनिवार्य है।

नए नियमों के तहत आप अपनी पसंद के चैनल चुन सकेंगे और आपको केवल उन्हीं चैनलों के लिए भुगतान करना होगा। इससे नए साल में आपके टीवी देखने का खर्च बढ़ सकता है। देश के सबसे बड़े टीवी ब्रॉडकास्टर जी और केबल कंपनी हैथवे ने तो अपनी प्राइस लिस्ट की घोषणा भी कर दी है। इलेक्ट्रॉनिक प्रोग्राम गाइड के जरिए हर चैनल पर उसकी कीमत लिखी होगी। आप अपनी पसंद से उसे चुन सकेंगे।