हैलो बीकानेर। सिस्टर ऑफ डेस्टीट्यूट एस.डी.कॉन्वेंट मुख्यालय पुष्पधाम, नई दिल्ली की सहायक प्रोविनिशयल सिस्टर एमीजी की अध्यक्षता में रविवार को शांति निवास वृद्ध आश्रम में रह रहे घर परिवार से बेघर लोगों को बेहतर सुविधा व वातावरण प्रदान करने, उनकी समस्याओं को दूर करने तथा आश्रम के विकास के लिए एक कोर कमेटी का गठन किया गया।
BIKANER BIG SAWAN QUEEN : For More Detail listen this Audio

कोर कमेटी का नाम ’’फ्रेण्डस ऑफ दी डेस्टी्ट्यूट’’ रखा गया। कमेटी में आश्रम के सहयोग करने पर शिव कुमार सोनी को सचिव तथा जोसफ कुरियन ’’संतोष’’को सह सचिव मनोनीत किया गया है। श्री सोनी व श्री जोसफ मानद रूप में आश्रम के विकास में सहयोग करेंगे तथा आश्रम में परोक्ष-अपरोक्ष रूप से सहयोग व सेवा देने वालों को जोड़ेगे और आश्रम के विकास में तन,मन व धन से सहयोग करेंगे।
कोर कमेटी में सरदार पटेल मेडिकल कॉलेज के मेडिसिन विभाग के प्रोफेसर डॉ.वीर बहादुर सिंह, एडवोकेट जोगेन्द्र सिंह, सार्वजनिक निर्माण विभाग के अधीक्षण अभियंता राजेन्द्र माथुर तथा शांतिनिवास वृद्ध आश्रम की सिस्टर को संरक्षक तथा जसवंत खजांची,सुनील कुमार, वी.ए.जोसफ, अगस्टिन व रमेश पेड़ीवाल, डॉ.सिद्धार्थ असवाल, अन्नमा अब्राहम, मैसी जोसफ, वसंधा जोसफ, सरोज खजांची, मीनूदेवी, ईरा माथुर को कमेटी में सदस्य मनोनीत किया गया।
सहायक प्रोविनिशयल सिस्टर एमीजी ने कहा कि बीकानेर के लोगों के तन,मन व धन से सहयोग के कारण ही शांति निवास वृद्ध आश्रम में सिस्टर घर परिवार से बेघर, असहाय वृद्धजनों की सेवा प्रभु रूप में कर पाती है। आश्रम में किसी तरह का सरकारी अनुदान व सहायोग नहीं लिया जाता है। जन सहयोग तथा भुट्टों के चौराहे पर संचालित सेंट टरेसा किडर गार्टन स्कूल से प्राप्त राशि से ही वृद्धजनों की सेवा की जाती है। उन्होंने बताया कि एस.डी.कॉन्वेंट की ओर से देश के विभिन्न इलाकों में अस्पताल,वृद्ध आश्रम, नारी निकेतन, कोढ निवारण केन्द्र, असहाय सहायता केन्द्र, स्कूलों का संचालन किया जाता है। आश्रम में सेवाएं देने वाली सिस्टर घर परिवार को छोड़कर मानव सेवा व शिक्षा को समर्पित है।
सिस्टर सोशिमा, सिस्टर उदया तथा सिस्टर एलिजाबेथ ने आश्रम की गतिविधियों से अवगत करवाया।

2 COMMENTS

  1. Merely a smiling visitor here to share the love (:, btw outstanding design and style. “The price one pays for pursuing a profession, or calling, is an intimate knowledge of its ugly side.” by James Arthur Baldwin.

LEAVE A REPLY

*

code