हैलो बीकानेर। जिला कलक्टर कुमार पाल गौतम ने कहा कि 26 सितंबर से 29 सितंबर तक नोखा उपखंड के मुकाम में लगने वाले मेले में सभी व्यवस्थाएं चाक-चैबंद रहेगी, मेले में आने वाले श्रद्धालुओं को सभी व्यवस्थाएं बेहतर मिले इसके लिए स्थानीय अधिकारी समन्वय से कार्य करें।

गौतम मंगलवार को विश्नोई समाज के पवित्र तीर्थ स्थल मुक्ति धाम मुकाम में गुरु जंभेश्वर की समाधि के दर्शन करने के बाद उपस्थित लोगों से बातचीत कर रहे थे तथा साथ आए अधिकारियों से मेले के बारे में संपूर्ण जानकारी ली और आवश्यक दिशा निर्देश भी दिए।

जिला कलक्टर ने 26 सितंबर से लगने वाले मेले में की जाने वाली विभिन्न व्यवस्थाओं के बारे में अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि मेला स्थान पर यातायात पुलिस की व्यवस्था इस तरह से हो कि वाहन आदि व्यवस्थित रूप से खड़े रहे और आम श्रद्धालु आसानी से अपने वाहन खड़े करके समाधि स्थल पर धोक लगाने और दर्शन करने का कार्य कर सके। उन्होंने कहा कि चार दिवसीय मेले के दौरान बिजली और पीने के पानी की व्यवस्था के साथ-साथ मेला स्थल पर चिकित्सा स्वास्थ्य सेवाएं चुस्त-दुरूस्त रहे इसके लिए विभाग अपने स्तर पर संपूर्ण कार्यवाही करेंगे।

जिला कलक्टर ने इस अवसर पर अखिल भारतीय बिश्नोई महासभा मुकाम द्वारा जारी पोस्टर का विमोचन किया। पोस्टर के माध्यम से विश्नोई महासभा मेले में आने वालों से आग्रह किया कि मेला परिसर में शांति व्यवस्था बनाए रखें, कानून व्यवस्था में आम जन सहयोग करें, परिसर को स्वच्छ व सुंदर बनाए रखें, मेला परिसर में पॉलिथीन का उपयोग वर्जित है तथा मेला परिसर में पॉलिथीन का उपयोग न करें। साथ ही परिवहन विभाग यातायात पुलिस के साथ मिलकर मेले के दौरान आने वाले वाहनों के लिए समुचित व्यवस्था करें।

मुकाम बने पॉलिथीन मुक्त पंचायत
जिला कलक्टर गौतम ने उपस्थित आमजन तथा अखिल भारतीय बिश्नोई महासभा और जंभेश्वर सेवक दल के सदस्य व बिश्नोई महासभा की कमेटी के पदाधिकारियों से कहा कि जनप्रतिनिधि आमजन तथा सभी मिलकर यह प्रयास करें की मुकाम पंचायत पॉलिथीन मुक्त पंचायत बने इसके लिए नोखा नगरपालिका भी लोगों से बातचीत कर समझाइश करें।
जिला कलक्टर ने मुकाम में व्यवस्थाएं देखने के बाद वहां स्थित गौशाला का निरीक्षण भी किया तथा समराथल धोरा जाकर वहां भी धोक लगाई। इस अवसर पर अखिल भारतीय बिश्नोई महासभा कमेटी के सदस्य मुकाम सरपंच रविंद्र विश्नोई, उपखंड अधिकारी रमेश देव, विकास अधिकारी सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित थे। महासभा से जुड़े पदाधिकारियों ने बताया कि इस चार दिवसीय मेले में देश के विभिन्न क्षेत्रों से 5 लाख से ज्यादा विश्नोई समाज के श्रद्धालु पहुंचते हैं।