बीकानेर hellobikaner.com राजस्थानी नाटक ‘अैसो चतुर सुजान’ का दसवां मंचन शुक्रवार को बीकानेर के रेलवे प्रेक्षागृह में हुआ। नाटक के लेखक हरीश बी.शर्मा और निर्देशक विपिन पुरोहित थे।

यू. एस. एकेडमी एवं उत्तर पश्चिम रेलवे साहित्य एवं संस्कृति संस्था, बीकानेर द्वारा चल रहे समारोह में अंतिम दिन की प्रस्तुति के दौरान कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जिला मजिस्ट्रेट राजेन्द्र सहू, विशिष्ट अतिथि भाजपा के पूर्व अध्यक्ष नन्द किशोर सोलंकी, राजस्थानी के वरिष्ठ कथाकार कमल रंगा थे। अध्यक्षता वरिष्ठ रंगकर्मी प्रदीप भटनागर ने की।

मुख्यमंत्री गहलोत ने दी बीकानेर के इन विभागों को यह सौगात…..

बीकानेर : निजी बिजलीं कंपनी पर सरकार का कोई होल्ड नही रहा : अखिलेश प्रताप सिंह

नाटक में बताया गया कि व्यक्ति चाहे कितना भी बड़ा बन जाये, उसे अभिमान नहीं आना चाहिए। उसे अपनी मर्यादा नहीं भूलनी चाहिए। नाटक के कथानक में बताया गया कि आम जनता से निकले व्यक्ति सुजान कैसे अपने बुद्धि-कौशल से राज्य का महामंत्री बन जाता है, लेकिन वह अपनी वास्तविकता को नहीं भूलता। इसी वजह से सबका मन जीत लेता है।


नाटक के मुख्य पात्रों में मंजू रांकावत, मुकेश सेवक सुनीलम, संजीव पुरोहित, अनिता जोशी, राहुल चावला सुनील व्यास, अविरल, आमिर, प्रशांत, आनन्द, केशव, जसकरण, अशोक, बाल कलाकार सन्नी एवम भावेश रहे। प्रकाश प्रभाव दीपांकर चौधरी का रहा। कोरस में वरिष्ठ रंगकर्मी इकबाल जी, दामोदर तंवर एवं विनय किराडू ने साथ दिया। मंच पार्श्व में उत्तम सिंह, योगेश हर्ष, सुरेश बिस्सा ने सहयोग किया। तबले पर किशन बिस्सा ने संगत की। कार्यक्रम का संचालन रंगकर्मी संचालन मयंक सोनी ने किया।