शिक्षा का मूल मंत्र, मानो मत, जानो : डॉ. भनोत

हैलो बीकानेर। लॉयन्स एवं लॉयनेस क्लब मल्टीविजन बीकानेर द्वारा गुरूवार को शिक्षक दिवस पर बीकानेर जिले के प्रतिभावान चयनित 9 शिक्षकों का सम्मान तृप्ति हॉल सभागार में किया गया। समारोह की मुख्य अतिथि डूंगर महाविद्यालय की पूर्व प्राचार्य डॉ. बेला भनोत थी। डॉ. भनोत ने कहा कि समाज के बदलते परिवेश में शिक्षा और शिक्षक की स्थिति पर विद्यार्थियों को अपनी अभिरूचि एवं अभिक्षमताओं को ध्यान में रखते हुए कैरियर क्षेत्र का चयन करना चाहिए।

आज समाज को विशिष्ट व्यक्तित्व वाले शिक्षकों की आवश्यकता का महत्व बताते हुए डा. भनोत ने विद्यार्थियों को अनुशासन की परिसीमाओं में रहने का आग्रह किया तथा अपने जीवन का लक्ष्य निर्धारित कर निष्ठापूर्वक कर्म करते चले जाना जीवन में सफलता प्राप्ति का मूलमंत्र प्रतिस्थापित करने पर बल दिया। भनोत ने कहा कि विद्यार्थियों को जीवन में समय प्रबंधन को अपनाने का आग्रह करते हुए स्वंयसेवकों को अपनी प्राथमिकताएं आज के युग के अनुसार तय करने का संदेश दिया। कार्यक्रम की विशिष्ट अतिथि महारानी किशोरी देवी की प्राचार्य पैपिनो ग्रोवर ने कहा कि  शिक्षक दिवस पर शिक्षकों का दिल से सम्मान किया जाता है जो समाज के लिये हटकर कार्य करते हैं तथा युवाओं और छात्रों को प्रेरणास्पद कार्य करने को कहा तथा शिक्षक  व विद्यार्थी को मुल्यांकन करने की बात से अवगत कराया। लॉयन्स क्लब की अध्यक्ष लॉयन अविनाश भार्गव व लॉयन प्रमोद सक्सेना ने सभी का स्वागत करते हुए कहा कि आदर्श शिक्षक एक शिल्पकार है जो मूर्तिरूपी विद्यार्थी  को तराशने का कार्य करता है।

इस अवसर पर विजयलक्ष्मी आचार्य, दिव्या मेहता, नीतू अग्रवाल, सुनीता कपूर, शिवनंदनी ,बंशीलाल भाटी, नीतू वर्मा, हर्ष जैन, नेहा गुप्ता आदि शिक्षकों का सम्मान श्रीफल, प्रतीक चिह्न, प्रशंसा पत्र और पाठ्य सामग्री देकर सम्मानित किया।  लॉयन अंजू जैन व लॉयन शशांक सक्सेना ने सभी उपस्थित आगन्तुकों का आभार जताया। लॉयन अरूण जैन,लॉयन सुमन भार्गव, लॉयन मीना आसोपा, लॉयन टी.जी. भटनागर,  लॉयन विजय शर्मा, लॉयन नीरज भटनागर, लॉयन विजय खरखोदिया, लॉयन रचना सोनी, आदि ने अपनी सक्रिय भूमिका निभाई। कार्यक्रम का संचालन करते हुए लॉयन अरूणा जांगिड़ ने गीत गाकर अपनी प्रस्तुति दी।