कथाकार कवयित्री डॉ. संजू श्रीमाली के सद्य प्रकाशित संग्रह

“हलक तर हाइकु”  का लोकार्पण

हैलो बीकानेर न्यूज़। कथाकार कवयित्री डॉ. संजू श्रीमाली के सद्य प्रकाशित संग्रह”हलक तर हाइकु” का लोकार्पण एम. एस. कॉलेज सभागार में हुआ।विमोचन -समारोह के मुख्य अतिथि साहित्य अकादमी अध्यक्ष डॉ. इन्दूशेखर तत्पुरुष ने कहा कि साहित्य ही समाज को जोड़ने का काम करता है। साहित्य संवेदनायुक्त होने के कारण ही मानव को मानव बनाता है। डा. श्रीमाली का हाइकु-संग्रह संभाग स्तर पर प्रशंसनीय पहल रखता है।अति विशिष्ट अतिथि डॉ. नंद भारद्वाज ने कहा कि कवयित्री ने “अपनी कही”में हाइकु का इतिहास लिखकर पाठक के लिए हाइकु समझ की राह प्रशस्त की है।

बीकानेर न्यूज़ : बीकाजी की फैक्ट्री लगी भीषण आग, देखे वीडियो

अध्यक्षता करते हुए केंद्रीय साहित्य अकादमी संयोजक,कथाकार,रंगकर्मीमधु आचार्य “आशावादी” ने कहा कि साहित्य किसी विश्वविद्यालयी सरोकार को नहीं तकता। यह समाज से सरोकार रखता है। साहित्यकार समाज का अभिन्न अंग है अतः समाज-वातावरण में सकारात्मकता उसका प्रथम ध्येय है।संरक्षक डॉ. उमाकांत गुप्त ने डॉ. श्रीमाली के उज्ज्वल भविष्य की कामना की।अतिथियो का स्वागतभाषण वरिष्ठ पत्रकार ,समाजसेवी लूणकरण छाजेड़ ने किया।पत्रवाचन कोलकाता से पधारे युवा साहित्यकार कमल पुरोहित ने किया।मंच संचालन हरीश. बी शर्मा और आभार साहित्यकार कमल रंगा ने किया। समारोह में डॉ. विजयलक्ष्मी ,”विजया बीकानेरी”(रोहतक) का संस्था द्वारा सम्मान किया गया।

ये रहे साक्षी–

डॉ. दिग्विजय सिंह, प्रोफेसर अभिषेक शर्मा,डॉ. नीरज दैया, बुलाकी शर्मा, डॉ. मदन सैनी, रवि पुरोहित, मुकेश गोयल किलोइया(दिल्ली), डॉ. उषा किरण सोनी, प्रोफेसर विमला डूकवाल,लॉयंस उड़ान अध्यक्ष डॉ. विजयलक्ष्मी व्यास, डॉ. दीपिका व्यास, शारदा भारद्वाज, सीमा भाटी, रीतू शर्मा, गायत्री शर्मा, घनश्याम नाथ कच्छावा, डॉ. साधना प्रधान, कल्पना मिश्रा,डॉ. गौरव बिस्सा, डॉ. अजय जोशी ,असद अलि असद, जिया-उल हसन कादरी, संजय आचार्य ‘वरुण’, सुनील गज्जानी, इरशाद अज़ीज, कासिम बीकानेरी, बाबूलाल छंगाणी, गिरिराज पारीक, बी. डी हर्ष, पुखराज सोलंकी आदि।