तीन दिन में ही पुलिस को मिली सफलता

मौज मस्ती के लिए बने अपराधी

हैलो बीकानेर/ जितेश सोनी। दो जुलाई को रतननगर थानान्तर्गत नाकरासर बैंक मैनेजर पर हुई गोली बारी प्रकरण ेमं आरोपियों को पकडने ेमं पुलिस को बडी सफलता मिल गई। पुलिस ने आधुनिक तकनीक एवं विधि विज्ञान का सहारा लेकर मुल्जिमों की पहचान की। रतननगर थानाधिकारी पुष्पेन्द्र सिंह, कानि धर्मेन्द्र, मुकेश, मुकेश कुमार, राजेश व नवीन सहित पुलिस जाप्ते ने आरोपी चैनपुरा बड़ा गांव का निवासी रिपुदमन सिंह पुत्र मामन सिंह जाती राजपूत, चैनपुरा बड़ा निवासी अभय उर्फ भगत सिंह पुत्र किरोड़ीमल जाति जाट,. धौधलिया निवासी प्रतापसिंह पुत्र बजरंग सिंह जाति राजपूत एवं एक नाबालिग की पहचान कर सिद्धमुख के पास एक होटल से गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों के पास से दो देशी कट्टें, जिन्दा कारतुस व काम ेमं ली गई कार को बरामद किया।

सड़क हादसे में 3 की मौत 5 जने हुए घायल

उल्लेखनीय है कि पुलिस थाने को सूचना प्राप्त हुई थी कि बड़ौदा क्षैत्रीय ग्रामीण बैंक शाखा नाकरासर में अज्ञात हथियारबन्द लूटेरों ने बैंक लूटने के इरादे से बैंक मैनेजर पवन कुमार दाधीच को गोलीमार दी। हथियारबंद बदमाश सफेद रंग की कार लेकर फरार हुए है। सूचना पर जिला पुलिस अधीक्षक राहुल बारहट, वृताधिकारी देवेन्द्र सिंह, सरदारशहर वृताधिकारी रधुवीर प्रसाद, रतनगढ़ वृताधिकारी नारायणदान एवं पुलिस थाना सदर थानाधिकारी पृथ्वीपाल सिंह आदि ने नाकरासर पहुंचकर बैंक का मौका मुआयना किया। पुलिस अधीक्षक राहुल बारहट, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अनिल सिंह चैहान, ववृताधिकारी वृत देवेन्द्रसिंह के नेतृत्व में टीम का गठन किया गया था।

उल्लेखनीय है कि आरोपियों ने कार और शराब का शौक पुरा करने की नियत से बैंक लूट की साजिश रची। ये आरोपी नाकरासर बैंक लूट ेमं असफल होनें के बाद एक होटल ेमं लूट की घटना को अनजाम देन वाले थे।
पुलिस अधिक्षक के अनुसार उक्त वारदात का खुलासा करने ेमं एस.आई.राम गिलास, कान्सटेबल वीरेन्द्र, प्रदीप और रामाकान्त की अहम भूमिका रही।

LEAVE A REPLY