लोकसभा चुनाव के सातवें और अंतिम चरण में रविवार को शाम पांच बजे तक लगभग 61 प्रतिशत मतदान हुआ। इस चरण में केन्द्र शासित क्षेत्र चंडीगढ़ सहित सात राज्यों की 59 सीटों पर मतदान था।


उप चुनाव आयुक्त उमेश सिन्हा ने संवाददाता सम्मेलन में बताया कि अंतिम चरण में शाम पांच बजे तक लगभग 61 प्रतिशत मतदाता अपने मताधिकार का उपयोग कर चुके थे। उन्होंने बताया कि पिछले लोकसभा चुनाव (2014) में सातवें चरण वाली 59 सीटों पर 64.63 प्रतिशत मतदान हुआ था।

सिन्हा ने बताया कि कुछ सीटों को छोड़ कर सभी संसदीय क्षेत्रों में मतदान की अवधि शाम छह बजे तक निर्धारित होने के कारण मतदान के अंतिम आंकड़े मिलने में समय लगेगा। इस चरण में शाम पांच बजे तक सर्वाधिक मतदान (73.05 प्रतिशत) पश्चिम बंगाल की नौ लोकसभा सीटों पर हुआ। जबकि उत्तर प्रदेश की 13 सीटों पर 53.76 प्रतिशत मतदान हुआ।

उल्लेखनीय है कि सात चरणों में लोकसभा की 543 में से 542 सीटों पर मतदान हो चुका है। तमिलनाडु की वेल्लोर सीट पर मतदान से पहले भारी मात्रा में अवैध नकदी बरामद होने के कारण मतदान स्थगित कर दिया गया था। सिन्हा ने बताया कि अभी वेल्लोर में मतदान की तारीख निश्चित नहीं की गयी है।

उन्होंने कहा कि सभी सात चरण के चुनाव में सामान्य तौर पर मतदान शांतिपूर्ण रहा। सातवें चरण में भी पश्चिम बंगाल में छिटपुट घटनाओं को छोड़कर सभी सीटों पर मतदान शांतिपूर्ण रहा।

सिन्हा ने बताया कि पिछले छह चरण में कुल मतदान का प्रतिशत 67.34 रहा। यह 2014 के चुनाव की तुलना में 1.21 प्रतिशत अधिक है।

उल्लेखनीय है कि सातवें चरण में पंजाब और उत्तर प्रदेश की 13-13, बिहार और मध्य प्रदेश की आठ-आठ, पश्चिम बंगाल की नौ, हिमाचल प्रदेश की चार, झारखंड की तीन और चंडीगढ़ सीट पर मतदान हुआ । आगामी 23 मई को मतगणना होगी।