पाटा पर गुजरी है पीढियां वो है मेरा शहर : रंगा

हैलो बीकानेर, बीकानेर। रमक झमक संस्था द्वारा शनिवार को  पाटा सस्कृति के लेखक डॉ राजेन्द्र जोशी व मुम्बई में पहचान में लगे रंगकर्मी नवल किशोर व्यास का अभिनन्दन वरिष्ठ नाटकार व साहित्यकार  लक्ष्मीनारायण रंगा, राजस्थानी साहित्यकार गौरीशंकर प्रजापत,सूचना एवं जनसम्पर्क के पूर्व निदेशक दिनेश सक्सेना, पण्डित शिवशंकर ओझा,पूर्व पार्षद दुर्गादास छंगाणी,रमक झमक के अध्यक्ष प्रहलाद ओझा ‘भैरु’, शिवदत्त ओझा,शिव महाराज व विकास किराडू आदि ने अभिनन्दन पत्र,ओपरना, श्री फल,पुस्तक व गीतों की सीडी भेंट कर सम्मानित किया। आभार अविनाश आचार्य आभार ने प्रकट किया ।
रमक झमक के इस कार्यक्रम में वरिष्ठ नाटककार लक्ष्मीनारायण रंगा ने कहा की पाटा पर गुजरी है पीढियां वो है शहर मेरा । उन्होंने कहा कि कला व सस्कृति के लिये डॉ जोशी व श्री व्यास से इस शहर को बड़ी उम्मीदें है । रमक झमक शहर परकोटे की परम्परा व सस्कृति के लिये  कार्य कर रही है और ऐसी प्रतिभाओं का सम्मान करने से युवाओं का अपनी सस्कृति के लिये और अधिक रुझान बढ़ेगा । रँगा ने कहा नवल को कहा कि मुंबई स्थापित होने के बाद प्रतिभाशाली अन्य युवाओ को आगे लेकर जाए ,मुंबई में अभिताभ के साथ काम करने पर बधाई व शुभकामना दी ।
गौरीशंकर प्रजापत ने कहा कि हमारी सस्कृति हमारी धरोहर है ,इसे संजोए रखने के लिये रमक झमक के नियमित प्रयास उल्लेखनीय है । दिनेश सक्सेना ने कहा कि ने कहा कि बीकानेर शहर एक सास्कृतिक नगर है । रंगकर्मी नवल व्यास व लेखक डॉ जोशी ने कहा कि हमारा सम्मान वास्तव में हमारी अधिक मेहनत व जिम्मेदारियों का अहसास कराता रहेगा ।  रंगकर्मी नवल व्यास ने आने वाली हिंदी फिल्म आई एम पिंगला में भी एक महत्वपूर्ण रोल निभाया है।
left