हैलो बीकानेर,(बालकृष्ण व्यास),नोहर। कस्बे में वर्षो पूर्व पीने के पानी का संकट गहराया रहता था तब शहर के लोगो को घर घर मीठा पेयजल उपलब्ध करवाने के लिए स्वर्गीय सेठ गौरीशंकर बिहानी द्वारा विशाल लोहे वाली पानी की टंकी का निर्माण करवाया गया था और निर्माण के बाद से आज तक घरों में भी इस लोहे की टंकी से जल सप्लाई होता आ रहा है लेकिन वर्षो पूरानी हो चुकी इस लोहे की टंकी में जंग लगने से जगह जगह लीकेज,जर्जर हालत में होने के कारण जलदाय विभाग ने निर्णय लेकर इसे हटाने का कार्य शुरू कर दिया है जिसे शीघ्र ही लोहे वाली पानी की टंकी अब नोहर के इतिहास के पन्नों में नजर आएगी। जलदाय विभाग का कहना है कि लोगो के स्वास्थ्य और सुरक्षा की दृष्टि से इसे हटाया जाना आवश्यक हो गया था अब इसकी जगह अधिक स्टोरेज वाली सीमेंटेड टंकी का निर्माण करवाया जाएगा। बिहानी परिवार के प्रति अटूट स्नेह रखने वाले नोहर कस्बे वासियों की मांग है कि इस जगह बनने वाली सिमेन्टेड नई टंकी पर बिहानी जल प्रदाय योजना नाम लिखा जाना चाहिए।
टंकी के प्रति लोगो का है विशेष लगाव: लोहे वाली पानी की टंकी लोगो में प्यार और स्नेह की प्रतिमूर्ति है लोगो का मानना है कि इस टंकी से स्वर्गीय गौरीशंकर बिहानी की यादें जुडी हुई है। एक समय था जब लोग पीने के पानी के लिए तरसते थे ऐसे समय मे स्वर्गीय बिहानी ने बिहानी जल प्रदाय योजना का निर्माण करवा कर लोगो को अमृतरूपी जल मुहैया करवाया गया था।
सीधे सरल ठिकाने के रूप में काम आती थी लोहे की टंकी: लोहे वाली पानी की टंकी लोगो के स्थायी पते के काम आती थी और पूरे नोहर क्षैत्र में विशिष्ठ पहचान रखने वाली टंकी से कोई भी व्यक्ति अनजान नही था।

 

LEAVE A REPLY