जैसलमेर। गृह मंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में आर्टिकल 370 हटाने के लिए प्रस्ताव पेश किया है. इसे राष्ट्रपति की मंजूरी दे दी गई है. इसके साथ ही शाह ने राज्यसभा में जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन विधेयक और जम्मू कश्मीर आरक्षण दूसरा संशोधन बिल भी पेश किया. पुनर्गठन विधेयक लागू होने के बाद जम्मू-कश्मीर विधानसभा के साथ एक केंद्र शासित प्रदेश होगा, जबकि लद्दाख विधानसभा के बिना केंद्र शासित प्रदेश होगा. इस बीच विपक्ष के नेताओं ने सदन में जोरदार हंगामा कर रहे हैं. संविधान की कॉपी फाड़ी गई.

जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाने की घोषणा, घाटी क्षेत्र में सुरक्षा बलों की तैनाती और सियासी हलचलों का असर राजस्थान में भी देखने को मिल रहा है। भारत-पाकिस्तान की राजस्थान से लगती अंतरराष्ट्रीय सीमा पर जवान अलर्ट मोड पर हैं। राजस्थान में बॉर्डर की निगरानी में तैनात सीमा सुरक्षा बल विशेष सतर्कता बरत रहा है।

जम्मू कश्मीर के मौजूदा हालात के साथ-साथ स्वतंत्रता दिवस समारोह को देखते हुए भी राजस्थान में भारत-पाक सीमा पर अतिरिक्त चौकसी बरती जा रही है। बता दें कि भारत-पाकिस्तान की 1070 किलोमीटर सीमा राजस्थान के बाड़मेर, जैसलमेर, श्रीगंगानगर और बीकानेर जिले से लगती है। सभी जिलों में बीएसएफ हाई अलर्ट पर है और 7 अगस्त से ऑपरेशन अलर्ट शुरू करने की तैयारी में भी है। उधर, भारत सरकार जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाने वाली है। गृहमंत्री अमित शाह ने सोमवार को राज्यसभा में इसकी घोषणा कर दी है।

क्या है ऑपरेशन अलर्ट

सीमा सुरक्षा बल की ओर 7 से 22 अगस्त तक राजस्थान के साथ-साथ पंजाब से लगती भारत-पाक सीमा पर ऑपरेशन अलर्ट शुरू किया जाएगा। जिसमें बीएसएफ के जवानों के साथ साथ अधिकारी भी शामिल रहेंगे। खास पेट्रोलिंग की जाएगी। 24 घंटे बॉर्डर पर पैनी नजर रखी जाएगी। ऑपरेशन के तहत सीमा सुरक्षा बल के सभी कमाण्डेन्ट मुख्यालय बॉर्डर पर रहेंगे। ऑपरेशन में बीएसएफ के साथ साथ आर्मी और पुलिस के जवान भी साथ रहेंगे।

अतिरिक्त जवानों की तैनाती

मीडिया रिपोर्टर्स में एमएस राठौड़, उप महानिरीक्षक, बीएसएफ राजस्थान फ्रंटीयर के हवाले से लिखा गया है कि बॉर्डर पर सुरक्षा बढ़ाने के लिए ऑपरेशन अलर्ट शुरू किया जा रहा है इस दौरान सभी अधिकारी व जवान अतिरिक्त सजगता बरतेंगे। पैदल गश्त के साथ ही गाड़ियों, ऊंटों और ड्रोन से भी सीमा पर नजर रखी जाएगी।

15 टुकड़ियां कश्मीर भेजी

यह बात भी सामने आई है कि राजस्थान बॉर्डर से सीमा सुरक्षा बल की 15 ​टु​कड़ियां हाल ही जम्मू कश्मीर भेजी गई हैं, जिनमें 15 सौ जवान शामिल हैं। इसके अलावा बीएसएफ के सभी जवानों व अफसरों को 7 से 21 अगस्त ऑपरेशन अलर्ट के तहत बॉर्डर पर तैनात किया जाएगा।