जयपुर (हैलो बीकानेर न्यूज़)। राजनीति की एक ऐसा दृश्य आज कैमरा में कैद हुआ जो बहुत कुछ बाया करता है। मौका था अल्बर्ट हॉल का जहाँ राजस्थान के नए मुख्यमंत्री के रूप में अशोक गहलोत और उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने सोमवार को शपथ ग्रहण ली। कुछ ही दिनों पहले की बात है, मतलब चुनाव से पहले दोनों ही पार्टी के नेता वसुंधरा राजे और अशोक गहलोत एक दुसरे पर ना जाने कितने और कैसे कैसे आरोप लगाते हुवे सभी न्यूज़ चैनलों पर दिखाई दिए थे।

दोनों नेता एक दुसरे को निचा दिखाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे थे। अशोक गहलोत ने वसुंधरा राजे के लिए जैसे शब्दों का इस्तेमाल किया तो राजे ने भी अशोक गहलोत को सुनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी। कुछ दिनों पहले करोडों लोगों को ये नेता अपने भाषणों के जाल में फ़साने के लिए जमकर एक दुसरे पर आरोप लगते हुवे नज़र आ रहे थे। तो वो सब क्या था …. और अब ये सब क्या है ….? 

चुनाव ख़त्म हुवे परिणाम भी आ गया और एक दुसरे के लिए निकलने वाले शब्दों के बाण भी थम गए। यही है क्या राजनीति ? शपथ ग्रहण समारोह में दोनों नेताओ के चेहरे के भाव कही पर भी एक दुसरे के विरोध के नहीं लगे। राजे ने गहलोत और पायलट को कांग्रेस की जीत और सीएम-डिप्टी सीएम बनने की बधाईयां दी। कार्यक्रम में राजे ने कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी से भी मुलाकात की। आप सब ने फिल्म रोटी (1974) का वो गाना तो सुना ही होगा….

ये पब्लिक है सब जानती, अजी अंदर क्या है, अजी बाहर क्या है
ये सब कुछ पहचानती है ये पब्लिक है…..

 

बीकानेर के डागा चौक में गूंजे राहुल, गहलोत, पायलट जिन्दाबाद के नारे