गजनेर में नाबार्ड का जल अभियान आयोजित

हैलो बीकानेर,। केन्द्रीय वित्त एवं कंपनी मामलात राज्य मंत्री श्री अर्जुन राम मेघवाल ने कहा कि पानी और पेड़ प्राणी मात्र के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण हैं, इनकी सुरक्षा के लिए सामूहिक प्रयास करने होंगे।

मेघवाल सोमवार को गजनेर में नाबार्ड द्वारा उरमूल सीमांत समिति के सहयोग से आयोजित जल अभियान एवं स्वयं सहायता समूह बैंक लिंकेज कार्यक्रम को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि बरसात का एक बूंद पानी भी व्यर्थ नहीं जाए, इस दिशा में प्रयास करने चाहिए। हमारे पूर्वजों ने बरसाती पानी के संरक्षण के लिए कुंए, तालाब और बावड़िया बनवाई। आज के दौर में इन परम्परागत जल स्रोतों को पुनः संरक्षित करने की जरूरत है। कबीर दास की के दोहे -’कबीर मन रे तू वृक्षण की मति ले, काटे जिससे बैैर नहीं, न सींचे उससे स्नेह’ का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि वृक्षों से सीख लेकर विनम्र व दानवीर बनाना चाहिए। उन्होंने स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को स्वयं आत्मनिर्भर बनने के साथ दूसरों को आत्मनिर्भर बनाने की पहल करने की सीख दी।

021

नाबार्ड (राजस्थान) के मुख्य प्रबंधक ए के सिंह ने कहा कि नाबार्ड द्वारा देशभर में समन्वित कार्यक्रम के माध्यम से एक लाख गांवों में जल अभियान चलाया जा रहा है। इनमें राजस्थान के 6 हजार 500 तथा बीकानेर के 500 गांव शामिल हैं। इन गांवों में कृषि जल दूतों के माध्यम से जल बचत की चेतना जाग्रत की जा रही है। बैंक ऑफ बड़ौदा के डीजीएम पीयूष नाग ने कहा कि महिलाओं में संचय की प्रवृत्ति होती है। संचित किया हुआ धन परिवार को संकट से निकालने में मदद करता है। एसबीआई के डीजीएम विनीत कुमार ने कहा कि पानी अनमोल है इसका कोई विकल्प नहीं है। आरएमजीबी के चैयरमैन एस के श्रीमाली ने कहा कि जिन स्वयं सहायता समूहों को बैंकों से ऋण मिले हैं वे इन्हें समयबद्ध चुकाएं, जिससे बैंक में उनकी साख बढ़े।

उरमूल ट्रस्ट के सचिव अरविन्द ओझा ने कहा कि नाबर्ड द्वारा ट्रस्ट के सहयोग से जिले में जल अभियान चलाया जा रहा है। अभियान के दौरान जिले के 500 गांवों में वाटर मैपिंग की गई है। इसके माध्यम से इन गांवों के परम्परागत जल स्रोतों की सही संख्या सामने आ सकेगी। इस अवसर पर एसबीआई, आरएमजीबी, बीओबी तथा आईसीआईसीआई द्वारा 170 स्वयं सहायता समूहों को 1 करोड़ रूपए से अधिक के ऋण दिए गए। इस अवसर पर केन्द्रीय वित्त एवं कंपनी मामलात राज्य मंत्री ने गजनेर झील में स्वच्छता अभियान में भागीदारी निभाई तथा पौधारोपण किया।