बीकानेर में नोटबंदी के खिलाफ कांग्रेस ने जनाक्रोश रैली निकाली

0


थकै धन दिवालिया’ सडक़ों पर हाहाकार, आजादी के बाद सरकार का कुप्रबन्धन : डॉ. कल्ला
आम जनता को भ्रष्टाचारी बताकर, केन्द्र सरकार ने दैनिक कार्य किये ठप : रैहाना रियाज
कांग्रेस नोटबन्दी के खिलाफ नहीं, जन आक्रोश रैली अव्यवस्थाओं के खिलाफ : यशपाल गहलोत
गांव, गरीब, किसान, मजदूर और मरीज पेरशानी में जनता में त्राहिमाम : राजेन्द्र गोदारा

बीकानेर,। राजस्थान प्रदेश कांग्रेस के आह्वान पर बीकानेर शहर जिला कांग्रेस कमेटी ने आज रतन बिहारी पार्क से जिला कार्यालय तक नोट बन्दी के बाद उपजी अव्यवस्थाओं के खिलाफ जन आक्रोश रैली निकाल कर केन्द्र की भाजपा सरकार के खिलाफ जिला कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा। जन आक्रोश रैली में पदाधिकारियों के साथ-साथ आमजन भी शामिल हुआ। जो कि नोट बन्दी से परेशान था। रैली में ‘मोदी तेरे शासन में-नोट मिलते राशन में, मोदी तेरे मन की बात-गरीब के पेट पर पड़ गयी लात, महिला, वृद्ध और किसान-नोट न मिलने से परेशान, देश में लगाकर कतार-भाषण दे रहे धुंआधार’ सरीखे नारे लगाते हुए लोग अपना रोष प्रकट कर रहे थे। जिला कलेक्टर कार्यालय के आगे पूर्व प्रदेशाध्यक्ष डॉ. बुलाकीदास कल्ला ने रैली को संबोधित करते हुए कहा कि बैंक के अधिकारी अपनी मनमानी पर उतर आये है। नोट बन्दी के बाद इस देश के हालात बेकाबू होते जा रहे है। आजादी के बाद पहली बार विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र में आमजन सरकार की कूप्रबन्धन के भेट चढ़ रहा है। केन्द्र सरकार और प्रधानमंत्री मोदी अभी भी देश के हालात पर मजे ले रहे है। शादी वाले घरों में 2.5 लाख की छूट के साथ इतनी पेचिदा शर्तें लगा दी गई है कि वो शादी की व्यवस्था करें या सरकार की शर्तें पूरी। पहली बार देश में थके धन दिवालिया वाली स्थति पैदा हो गई है। जिन लोगों के पास खाता नहीं है। उन लोगों को खाने के लाले पड़ रहे है क्योंकि बैंकों ने नोटों का बदलना बन्द कर दिया है और खाता धारकों को भी महज दो हजार रुपये दिये जा रहे है। आम जनता में अहाकार की स्थिति पैदा हो गई है।
प्रदेश महासचिव बीकानेर प्रभारी श्रीमती रैहाना रियाज ने सम्बोधित करते हुए कहा कि केन्द्र सरकार ने नोट बन्दी से पहले इन स्थितियों का आंकलन नहीं किया कि हमें हमे कितनी मुद्रा की आवश्यकता होगी। देश के सभी लोग अपने पैसों के लिए मोहताज होकर लाइनों में खड़े है सरकार इन्हें भ्रष्टाचारी बताकर आम जनता का उपहास उड़ा रही है। कांग्रेस भी देश में भ्रष्टाचार खत्म करने के पक्ष में है लेकिन यह जो तरीका वर्तमान केन्द्र सरकार ने अपनाया है वो बिल्कुल भी सही नहीं है। दूसरे शब्दों में कहें मानवाधिकारों का हनन है। रैहाना रियाज ने कहा कि केन्द्र सरकार बताये कि कितने उद्योगपतियों और अरबपतियों ने बैंकों में लाइन में लगकर अपने पैसे बदलावाये। सरकार के उचित प्रबन्धन ना करने की वजह से पूरे देश के हालात संकट में है। दैनिक कार्य ठप पड़े है।
प्रदेश सचिव राजेन्द्र गोदारा ने कहा कि पूरे देश के गांवों में स्थिति बड़ी भयावह बन चुकी है। गांव का गरीब किसान, मजदूर, मरीज सभी लोग परेशान है अस्पतालों में पैसे होते हुए भी इलाज नहीं हो पा रहा। मोदी जी का नोटबन्दी से पहले का आंकलन इस बात को शाबित करता है। कि उनमें देश की नब्ज पहचान ने और संसाधनों की जानकारी रखने की भी काबलियत नहीं। पूरे विश्व में भारत की स्थिति बड़ी देयनिय दिखाई जा रही है। व्यापार ठप पड़े है और सरकार मजे से अपने प्रचार में मशगूल है।
जिलाध्यक्ष यशपाल गहलोत ने कहा कि कांग्रेस नोट बन्दी के खिलाफ नहीं लेकिन जो अव्यवस्थाएं है अधिकारियों की मन-मानी है। और भाजपा सरकार पूरी तरह से जनता को राहत नहीं पहुंचा पा रही। इन अव्यवस्थाओं के खिलाफ कांग्रेस आन्दोलनरत है। गहलोत ने कहा कि बैंकों में कैश नहीं है, ऐसा कहकर सभी बैंक आमजन को वापस लोटा रहे है। वहीं रसूखदारों को पैसे उपलब्ध करवाने का गौरखधन्धा चला रहे है। लेकिन कांग्रेस आमजनता के साथ मिलकर उनके हक के लिए सरकार से लड़ती रहेगी। पूरे देश का व्यवसायिक व आर्थिक संतुलन बिगड़ गया है। नोट बन्दी के चलते सरकार के कूप्रबन्धन के कारण ७५ से अधिक मौते हो चुकी और सरकार फिर भी हालात सुधारने के लिए प्रयासरत नजर नहीं आती। ऐसे में जरुरत मंद व्यक्ति दलालों की भेंट चढ़ता जा रहा है।
सभा को सम्बोधित करते हुए पूर्व महापौर भवानी शंकर शर्मा ने कहा कि सरकार अपने दायित्व का निरह्वन नहीं कर रही देश में गृह युद्ध की स्थति के लक्षण दिखाई पड़ रहे है। ऐसे में कांग्रेसजन लामबन्ध होकर सरकार की अमानविय नीतियों का विरोध करें।


सभा को पूर्व मंत्री श्री विरेन्द्र बेनीवाल, पूर्व संसदिय सचिव गोविन्द राम मेघवाल, वरिष्ठ कांग्रेसी नेता जनार्दन कल्ला, वल्लभ कोचर, मुस्ताक भाटी, पीसीसी सदस्य सोहन चौधरी, नगर निगम नेता प्रतिपक्ष जावेद पडि़हार, जिला कांग्रेस के वरिष्ठ उपाध्यक्ष कन्हैयालाल कल्ला, मासूक अहमद, हीरालाल हर्ष, श्रीलाल व्यास, मुकेश राजस्थानी, अब्दुल मजीद खोखर, हारून राठौड़, पूर्व न्यास अध्यक्ष मकसूद अहमद, सोमचन्द सिंघवी, उपाध्यक्ष गजेन्द्र सिंह सांखला, जितेन्द्र सिंह रायसर, अरविन्द मिढढ़ा, रमेश कुमार व्यास, दिलीप बांठिया, हजारी देवड़ा, अयुब सौढ़ा, श्रीमती कमला विश्नोई, श्रीमती शकिला बानो, महासचिव रूप किशोर व्यास, ललित तेजस्वी, चन्द्र प्रकाश गहलोत, अनिल कल्ला, नितिन चढ्ढा, नंदलाल जावा, आनन्द जोशी, सुभाष स्वामी, गुलाब गहलोत, प्रवक्ता गौरीशंकर व्यास, पार्षद शहाबुद्दिन भुट्टो, मनोज नायक, यशपाल सिंह, मो. अनवर अली, मो. अखतर कलीम, प्रमानन्द गहलोत, युनीस अली, आदर्श शर्मा, सचिव सरीफ समेजा, लक्ष्मीनारायण प्रजापत, पाबूराम नायक, देवेन्द्र बिस्सा, मनोज किराडू, हसन अली, सत्यनारायण प्रजापत, शिवकुमार गहलोत, राहुल जादूसंगत, विकास तंवर, इकबाल नागौरी, चन्द्रशेखर चांवरिया, अब्दुल रहमान लोदरा, महेन्द्र सिंह बडग़ुजर, श्यामकुमार तंवर, मनोज चौधरी, हाजी खाँ, रवि पुरोहित, फिरोज भाटी, रवि पुरोहित, एजाज पठान, करणीसिंह राजपुरोहित, महिला कांग्रेस प्रदेश उपाध्यक्ष सरस्वती लेघा, यूथ कांग्रेस राष्ट्रीय सचिव डॉ. राजेन्द्र मूण्ड, यूथ कांग्रेस प्रदेश महासचिव शाबिर अहमद, सेवादल प्रदेश सचिव लालचंद गहलोत, युथ कांग्रेस पूर्व विधानसभा अध्यक्ष आजम अली, पश्चिम विधानसभा अध्यक्ष अरुण व्यास, महिला कांग्रेस अध्यक्ष सुनीता गौड़, इंटक अध्यक्ष महेन्द्र गहलोत, अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ अध्यक्ष अमजद अबासी, एनअस्युआई उपाध्यक्ष ऋ षभ भोजक, जिला कार्यकारिणी सदस्य श्रीमती राजूदेवी व्यास, मगन पंवार, जाकिर पठान, किशन पंवार, एनुल अहमद, ओबीसी प्रकोष्ठ अध्यक्ष जयकिशन गहलोत, मेक्स नायक, अभिषेक पंवार, सुमित कोचर, मुनीर अहमद, महिला कांग्रेस ब्लॉक अध्यक्ष आशा देवी स्वामी, मुमताज बानो, शबनम खान, राधादेवी भार्गव, हबीबा चौधरी, अमर जीत कौर, गुड्डी देवी, संतोष गुजर, ममता सोनी, रमणीदेवी छंगाणी, इकबाल मलवान, पूर्व पार्षद रमजान कच्छावा, शिवरी चौधरी, आनन्द सिंह सौढ़ा, देवकी नन्दन व्यास, जेठमल कोचर, जयदीप सिंह वाल्मिकी, अब्दुल सतार खान, सुमित जोशी, मनूड़सा आचार्य, प्रवक्ता नितिन वत्सस ने संबोधित करते हुए सुझाव प्रेषित किये।
जन आक्रोश रैली में रामदेव कल्ला, ताराचन्द जागा, नारायण जैन, अहमदन अली भाटी, गुलाम मुस्तफा, संतोष सेवग, सरला गोयल, राजेन्द्र हठिला, बलराम नायक, हंसराज विश्नोई, रविकांत वाल्मिकी, सुमित जोशी, लपू किराडू, विजय आचार्य, संध्या द्विवेदी, आदू राम भाटी, अशोक सारड़ा, विक्रम कल्ला, पहाड़ी व्यास, किशन कुमार सेवग, मो. सकुर गुजर, राजेश स्वामी, मनी महाराज, सुरेश व्यास, अजय भटनाकर, पंकज रामावत, पेमना, नरगीस सहित भारी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ता मौजद थे।
इसके बाद शिष्टमण्डल ने अतिरिक्त जिला कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा।