बीकानेर पुलिस ने सटोरियों पर कसा शिकंजा

0



बीकानेर। जुएबाजी की रोकथाम के लिये पुलिस अधीक्षक डॉ. अमनदीप सिंह के निर्देश पर बीकानेर पुलिस ने दो कुख्यात बुकीज व हवाला कारोबारी एवं चार बुकिज नागौर में भी गिरफ्तार किया है।
promotion-banner-medai-03
जानकारी के अनुसार 16 अगस्त को शिव झंवर उर्फ प्रेम झंवर निवासी नोखा के मकान पर थानाधिकारी नोखा द्वारा की गई क्रिकेट सट्टे कार्यवाही धारा 3/4 राजस्थान जुआ अध्यादेश की जांच थानाधिकारी श्रीडूंगरगढ़ विष्णुदत्त द्वारा की गई है। जांच के दौरान मिले मोबाइल फोन की सिम नं. 7023762308 की डिटेल व मोबाइल फोन की रिकॉर्डिंग मय क्रिकेट मैच पर न केवल करोड़ों के दांवें लगायो रूपयों के हिसाब का खुलासा हुआ बल्कि सटोरियों द्वारा संगठित गिरोह बनाकर क्रिकेट सट्टा से अवैध रूपयों से राष्ट्रीय विरोधी गतिविधियों में लिप्त पाकिस्तान व दुबई के सटोरियों से तार जुड़ पाए है। मौके पर मिले लेपटॉप व क्रिकेट मैच पर दांव पर लगाए करोड़ों के हिसाब के लिए कागजात से स्पष्ट हुआ है कि उक्त क्रिकेट सट्टा उत्तराखण्ड
क्रिकेट चैम्पीयनशीप किंग डॉक्टर राममनोहर लोहिया की ट्राफी के मैच पर शिव झंवर उर्फ प्रेम के मालूचौक स्थित नोखा के मकान पर चल रहा था जिनकी जांच से प्रेतित होता है कि यह ट्राफी क्रिकेट सट्टे के लिए शिव झंवर द्वारा प्रायोजित थी । इसके साथ ही जांच में यह स्पष्ट हुआ है कि रामलाल झंवर, शिव उर्फ प्रेम झंवर व प्रकाश सेठिया द्वारा संगठित गिरोह क्रिकेट सट्टा व हवाला कारोबार के माध्यम से अवैध धनराशि पर करोड़ों के दावे लगाए जा रहे है। उक्त तीनों आपस में सहयोगी व पार्टनर है। रामलाल झंवर द्वारा क्रिकेट सट्टा व हवाला कारोबार की गतिविधियों में मो. नं. 7023762308 काम में लिया जा रहा है। जिसकी सीम मरोठी चौक नोखा निवासी एक आधार कार्ड पर फर्जी कुटरचित दस्तावेजों में हस्तक्षर से प्राप्त की गई है। शिव झंवर के द्वारा उपयोग में लिये जा रहे मो. नं. 9269676767 की सिम एक नागरिक निवासी हिमटसर नोखा के आधार कार्ड से कूटरचित दस्तावेज व हस्ताक्षर से प्राप्त की गई है।
10-p-c-i-g-ki-6
शिव झंवर व रामलाल व उसके सहयोगी प्रकाश सेठिया निवासी गंगाशहर, बीकानेर द्वारा उपयोग में लिये जा रहे मो. नं. 9636919999 की सिम एक नागरिक निवासी मुक्ताप्रसाद नगर बीकानेर के पैन कार्ड से कूटरचित हस्ताक्षर व दस्तावेज के आधार पर प्राप्त की गई है। जांच के दौरान प्राप्त दस्तावेज, साक्ष्य, अखबार कंटिग 23 अक्टूबर नकल रोजनामचा रपट 21 अक्टूबर पुलिस थना शास्त्रीनगर जयपुर व पुलिस थाना गौरी गांव मुम्बई महाराष्ट्रा के अभ्यिोग संख्या 162/2013 धारा 465, 466, 468, 471, 419, 420, 34 की एपुआईआर व चार्जशीट से पाया गया कि रामलाल उर्फ आर.एल., शिव झंवर उर्फ प्रेम प्रकाश सेठिया क्रिकेट सट्टे से प्राप्त अवैध रूपयों से हवाला कारोबार के मध्य से राष्ट्र विरोधी गतिविधियों में लिप्त है व इनके सम्पर्क पाकिस्तान दुबई के राष्ट्र विरोधी तत्वों से है। रामलाल उर्फ आर.एल., शिव झंवर उर्फ प्रगेम प्रकाश सेठिया ने अवैध रूपयों से नोखा, बीकानेर राजस्थान व देश-विदेश में अरबों रूपये की चल व अचल सम्पत्ति बना रखी है। इनके विरूद्ध जुआ अधिनियिम के प्रकरण पूर्व में दर्ज है। पुलिस थाना शास्त्रीनगर जयपुर में हवाला के २३ लाख रूपयों के साथ गिरफ्तार व्यक्ति शिव झंवर व रामलाल उर्फ आर.एल. के साथी रिश्तेदार है। थानाधिकारी श्रीडूंगरगढ़ विष्णुदत्त पुलिस निरीक्षक की जांच रिपोर्ट पर डॉ. अमनदीप सिंह कपूर, पुलिस अधीक्षक बीकानेर के निर्देश पर पुलिस थाना गंगाशहर, बीकानेर में 9 नवम्बर को अभियोग संख्या 249 के अंतर्गत धारा 419, 420, 465, 467, 468, 471, 120 बी भा.द.स. व विधि विरूद्ध कार्यवाहियां अधिनियम 1967 की धारा 17, 18 व 3/4 राजस्थान सार्वजनिक जुआ अध्यादेश में प्रकरण पंजिबद्ध किया गया व प्रकरण का अनुसंधान वृत्ताधिकारी सदर, बीकानेर राजेन्द्रसिंह पुलिस उप अधीक्षक को सुपुर्द किया गया। दौराने अनुसंधान संकलित साक्ष्य, कॉल रिकॉर्डिंग व प्राप्त दस्तावेजात के आधार पर आरोपीगण रामलाल उर्फ आर.एल. झंवर व शिव झंवर उर्फ प्रेम को अवैध क्रिकेट सट्टा, हवाला कारोबार, राष्ट्र विरोधी तत्वों तक राशि उपलब्ध कराने व सम्पर्क रखने, दूसरे के नाम से कूटरचित दस्तावेज के आधार पर सिम प्राप्त कर सट्टा कारोबार करने के आरोप प्रमाणित होने से 10 नवम्बर को गिरफ्तार किया गया है। गतिविधियों में लिप्त अन्य बुकिज व हवाला कारोबार व अवैध राशि के संचालन व उसके आधार पर बनाई गई परिसम्पत्तियों के संबंध में अनुसंधान जारी है। चूंकि विधि विरूद्ध कार्यकलाप अधिनियम 1967 एनआईए एक्ट का शिड्यूल्ड धारा है। अत: इस बाबत पुलिस मुख्यालय एवं एनआईए को सूचित किया गया है।
पहले भी हुई थी कार्रवाई —
जुएबाजी की रोकथाम के लिये पुलिस अधीक्षक डॉ. अमनदीप सिंह की सख्त हिदायत के बाद भी सटोरियों को कार्यवाही का डर नहीं है क्योंकि सटोरियों क तार पुलिस वालो से जुड़े हुए है। ज्ञातव्य रहे कि विष्णुदत्त बिश्नोई ने नोखा में इन सटोरियों को पकडऩे के लिए छापेमारी की परन्तु सटोरियों को भनक लगने के कारण इन पर कार्यवाही नहीं की जा सकी।
सूत्रों के मुताबिक पता चला कि विष्णुदत्त ने पुलिस अधीक्षक को इस बारे में शिकायत भी की थी कि स्थानीय पुलिस की मिलीभगत के कारण ऑपरेशन असफल रहा था। उल्लेखनीय है कि इंडियन प्रीमियर लीग-2015 के फिक्सिंग मामले में झंवर का नाम आया था।
फोटो राजेश छंगाणी