बीकानेर hellobikaner.com

जिला कलक्टर नमित मेहता ने कहा कि कोरोना की जांच में अब मोबाइल वैन का उपयोग अधिक किया जाए, ताकि अलग-अलग स्थानों से जांच के सैंपल लिए जा सके तथा जिले में जितने भी मेडिकल शॉप है, उनके शॉप कीपर और कार्य करने वाले सभी व्यक्तियों की कोरोना जांच किया जाए। शुक्रवार तक पी.बी.एम. अस्पताल के आसपास के सभी मेडिकल शॉप संचालकों की कोरोना की जांच आवश्यक रूप से करवा ली जाए। यह लोग सर्वाधिक रिस्क एरिया में रहते हैं ऐसे में इनकी सुरक्षा हमारा दायित्व बनता है।

मेहता गुरुवार को कलेक्ट्रेट सभागार में कोविड-19 प्रबन्ध समीक्षा बैठक में बोल रहे थे।  उन्होंने कहा कि मोबाइल वैन के माध्यम से अगर यह जानकारी प्राप्त होती है कि कुछ स्थानों पर कोरोना पॉजिटिव रोगियों की संख्या अधिक हो सकती है, तो ऐसे स्थानों का चिन्हींकरण कर वहां कैंपों का आयोजन किया जाए, ताकि एक साथ ही सभी लोगों की सैंपलिंग हो सके।

उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र में जिन राजस्थान प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों को कोविड-19 की मॉनिटरिंग के लिए लगाया है वह अपने-अपने क्षेत्र का फीडबैक भी लेंगे कि उनके क्षेत्र में किसी पूरे परिवार अथवा मोहल्ला आदि के लोग प्रदेश के बाहर किसी शादी समारोह या किसी अन्य कार्य से बाहर गए हैं। अगर ऐसी सूचना आती है तो प्रदेश केे बाहर से आए हुए व्यक्तियों को पहले 5 दिन होम क्वाॅरेन्टाईन में ही रखा जाए और अगर 5 दिन के बाद किसी तरह के लक्षण आते हैं तो उनकी कोरोना की जांच की जाए। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र में लगे अधिकारी यह भी सुनिश्चित करेंगे कि उनके क्षेत्र में कोई रोगी के कांटेक्ट में आया है तो इसकी सूचना भी जिला मुख्यालय पर देवें और उसके कोरोना जांच के लिए संबंधित ब्लाॅक सीएमओ को निर्देशित किया जाए।

जिला कलक्टर ने कहा कि चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी यह भी सुनिश्चित करें कि राष्ट्रीय राजमार्ग के ऐसे स्थान जहां बसे रूकती है और ढाबे या होटल संचालित होते हैं वहां पर भी दुकानदारों आदि के सैंपल लिए जाएं। उन्होंने सचिव नगर विकास न्यास मेघराज सिंह मीना को निर्देश दिए कि हाईपोक्लोराईड का छिड़काव नियमित रूप से हो रहा है, इसकी भी मॉनिटरिंग कर प्रतिदिन सूचना एकत्रित कर पहुंचाई जाए। उन्होंने कहा कि अगर कोई व्यक्ति पॉजिटिव आ जाता है तो पहले उसके घर में यह व्यवस्था देख लें कि होम क्वाॅरेन्टाईन हो सकता है। अगर ऐसी व्यवस्था हो तो उसे होम क्वाॅरेन्टाईन में रखा जाए। लेकिन यह भी सुनिश्चित कर लिया जाए उसे कोरोना के अतिरिक्त कोई और गंभीर बीमारी नहीं है।

बैठक में अतिरिक्त जिला कलक्टर शहर सुनीता चौधरी, अतिरिक्त आयुक्त उपनिवेशन प्रेमाराम पंवार, चंद्र सिंह भाटी, अधीक्षक पी.बी.एम. डाॅ. मोहम्मद सलीम, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. बी एल मीणा सहित सभी कोविड-19 से सम्बन्धित अधिकारी उपस्थित थे।