बीकानेर। बीकानेर संभाग के सबसे बड़े अस्पताल पीबीएम में गत दिनों सिद्धार्थ कुमार मिश्रा की मृत्यु की घटना की जांच प्रशासनिक अधिकारी से करवाने के सम्बन्ध में नगर विकास न्यास के पूर्व अध्यक्ष  महावीर रांका द्वारा ऊर्जा मंत्री डॉ. बीडी कल्ला व  जिला कलक्टर कुमारपाल गौतम को ज्ञापन सौंपा गया।

न्यास पूर्व अध्यक्ष महावीर रांका ने बताया कि ज्ञापन में उल्लेखित है कि पीबीएम के किसी भी कर्मचारी द्वारा बाथरुम में फिसल कर गिरे और तड़पते हुए मरीज सिद्धार्थ कुमार मिश्रा की मदद नहीं की गई। इससे भी आगे दुखद यह है कि जब उनकी 14 वर्षीय पुत्री मदद के लिए डॉक्टर्स व नर्सिंग स्टाफ से मदद मांगी तब भी कोई सुनवाई नहीं हुई। फिर बच्ची ने घर पर फोन करके, जिला कलक्टर को सूचना करवाई गई तब जाकर पीबीएम स्टाफ हरकत में आया।

बीकानेर में एक और पॉजिटिव, आज अब तक आए 14 केस सामने

पूर्व चैयरमेन रांका ने बताया कि संवेदनहीनता की हद देखें कि अब मृतक के परिजनों को डेथ सर्टिफिकेट के लिए भी चक्कर निकलवाए जा रहे हैं। शुक्रवार जिला कलक्टर व ऊर्जा मंत्री को ज्ञापन देते हुए मृतक की पुत्री ने तथा महावीर रांका ने शीघ्र ही लापरवाह चिकित्सकों व नर्सिंगकर्मियों के खिलाफ सख्त कार्यवाही करने की  मांग की है ताकि भविष्य में कभी किसी मरीज की इलाज में लापरवाही से मौत न हो। ज्ञापन के दौरान पूर्व पार्षद राजेन्द्र शर्मा, मधुसूदन शर्मा, रमेश भाटी, प्रणव भोजक आदि उपस्थित रहे।