शहर की इस नामी ज्वैलर्स के खिलाफ मामला दर्ज, कर्मचारी लापता

0
hellobikaner.com




बीकानेर hellobikaner.com ज्वैलरी की दुकान से सोने के आभूषण चोरी करने तथा वहीं एक कार्मिक के साथ मारपीट करने के परस्पर मामले दर्ज हुए है। मामला तेलीवाड़ा स्थित श्री किसन ज्वेलर्स एंड संस से जुड़ा है।

 

 

इस संबंध में सुनील कुमार पुत्र किसान सोनी ने दो नामजद व्यक्तियों के खिलाफ कोतवाली पुलिस थाने में मुकदमा दर्ज करवाया है। जिसकी जांच एएसआई राकेश कुमार कर रहे हैं। पुलिस के अनुसार परिवादी ने रिपोर्ट देते हुए बताया कि गोपीकिशन व राजेन्द्र आचार्य उसकी दुकान से सोने के आभूषण अपनी जेब में छुपाकर ले गये।

 

 

जिनसे आभूषण वापस मांगे तो जान से मारने की धमकी दी। पुलिस ने परिवादी की रिपोर्ट पर केस दर्ज कर जांच शुरू की।ज्ञात रहे कि, इस मामले से पहले गोपीकिशन की पत्नी विमला देवी ने नयाशहर पुलिस थाने में सुनील सोनी, अनिल सोनी, राजेश सोनी, श्याम सोनी, बजरंग सोनी, नारायण हर्ष, पूनम मूंधड़ा, झूमर सोनी, पूनम, नवनीत सोनी, राम सोनी के खिलाफ मारपीट, पोक्सो एक्ट सहित विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज करवाया गया है।

 

 

जिसमें परिवादिया द्वारा आरोप लगाया है कि उसका पति गोपीकिशन पुरोहित पिछले 15 वर्षों से श्रीकिशन ज्वैलर्स एंड संस में काम करता है। आरोपियों ने अपनी दुकान में पिछले करीब दो वर्षों से हुुई सोने की छीजत का इंश्योरेंस कंपनी से क्लेम प्राप्त करने के इरादे से उसके साथ मारपीट की और शोरुम के अंडर ग्राउंड में बंद कर दिया और धमकी दी कि अगर हमारी बात पर हामी नहीं भरता है तो एसिड से जलाकर लाश को खुदबुर्द कर देंगे।

 

 

आरोपी है कि इस दौरान सभी आरोपियों ने उसके पति के साथ मारपीट की और गालियां निकाली। उसके बाद कार्मिक नारायाण हर्ष ने उसके लड़के राहुल को फोन कर कहा कि तुम तीनों भाई शोरुम आ जाओ, तुम्हारे पापा का शुगर बढ़ गया है। तीनों लड़कों को शोरुम बुलाकर उनके पिता के सामने मारपीट की। फिर भी बात नहीं मानी तो आरोपियों ने बच्चों के साथ गलकत हरकतें की और एसिड डालने की धमकी दी और कहा कि अब भी हमारी बात स्वीकार नहीं की तो बच्चों से हाथ धो बैठेगा। आरोप है कि डरे-सहमे उसके पति ने आरोपियों के कहे अनुसार वीडियो, हस्ताक्षर इत्यादि कर दिए।

 

 

परिवादिया ने आरोप लगाया कि आरोपी सुनील सोनी की मंशा उसके पति के प्लॉट को हड़पने की थी, लेकिन उक्त प्लॉट के कागजात उसके भाई राजेन्द्र आचार्य के नाम से है। रात को करीब साढ़े सात बजे भतीजा विष्णु आचार्य व नवल दोनों उसके पति व बच्चों को ढूंढ़ते-ढूंढते शोरुम में घुस गए। तब आरोपियों ने ने कहा कि फूंफा व भाईयों की सलामती चाहते हो तो अपने पिता को बोलकर प्लॉट का पट्टा व अपने पिता को बुला लो।

 

परिवादिया का आरोप है कि शोरुम के अंदर का नजारा देख दोनों भतीजे डर गए और भाई राजेन्द्र आचार्य को वहां बुला लिया। आरोप है कि आरोपियों ने उसके पति व बच्चों की जान बख्सने की एवज में जबरिया सुनील सोनी द्वारा सादे कागज पर 11लाख व 50 लाख की झूठी लिखा-पढ़ी कर उस पर उसके पति, दोनों भतीजों, उसके भाई व दोनों लड़कों के हस्ताक्षर करवा लिये।

 

परिवादिया ने बताया कि आरोपियों द्वारा क रवाई गई लिखा-पढ़ी का अवलोकन करने पर यह स्पष्ट हो जाता है कि उक्त लिखा-पढ़ी दबाव में लिखवाई गई है क्योंकि विष्णु आचार्य व नवल आचार्य से 83-83 चैक प्रत्येक चैक 30 हजार रुपये की रकम का प्राप्त करना लिखवाया है जबकि उसके दोनों भतीजों के चैक बुक ही इश्यु नहीं क रवाई हुई है।परिवादिया का आरोप है कि 29 नवंबर की रात को आरोपी सुनील सोनी, श्याम सोनी शराब के नशे में उसके घर पर आये। उसके पति के साथ हाथापाई व गाली-गलौज की। आरोपियों के डर से उसका पति 30 नवंबर की रात 10 बजे से लापता है।