बीकानेर hellobikaner.com भारी उद्योग एवं एवं संसदीय कार्य राज्य मंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने राजस्थान की ताजा परिस्थितियों पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा है कि जिस तरह से तीन चार दिन के घटनाक्रम के बाद सचिन पायलट को हटाया गया, यह पूर्व से सुनियोजित योजना थी और आरोप ये लोग लगातार प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह पर लगा रहे हैं ।

अर्जुन राम मेघवाल ने बताया कि गांधी परिवार ने अपने जीवनकाल में सरदार वल्लभ भाई पटेल हो या डाॅ. बीआर अम्बेडकर जी हों, सीताराम केसरी हो और नरसिम्हा राव किसी को कभी सम्मान दिया ही नहीं क्योंकि वो वंशवाद की परम्परा के खिलाफ थे।

आज के हालातों को देखते हुये अर्जुन राम मेघवाल ने कहा कि इस वंशवाद से ग्रस्त देश की सबसे पुरानी पार्टी जमीन से उखड चुकी है। 2019 के लोकसभा चुनावों में पार्टी की ऐसी दुर्गति हुई है कि राहुल गांधी खुद अमेठी से चुनाव हार गये थे लेकिन फिर भी कांग्रेस पार्टी के सारे फैसले राहुल गांधी द्वारा ही लिये जाते हैं क्योंकि कांग्रेस पार्टी पर एक ही परिवार का वर्चस्व रहा है और हमेशा से यही अध्यक्ष पद पर रहे हैं।  अर्जुन राम मेघवाल ने बताया कि आप कांग्रेस पार्टी का इतिहास उठाकर देख सकते हैं कि मोतीलाल नेहरू 2 साल, जवाहरलाल नेहरू 6 साल, इन्दिरा गांधी 8 साल, सोनिया गांधी 19 साल और राहुल गांधी 2 साल अध्यक्ष पद पर काबिज रहे जिसके चलते ईमानदार ओर मेहनत करने वाले कार्यकर्ताओं की हमेशा ही उपेक्षा रही है फिर चाहे वो हरियाणा से अशोक तंवर रहे हो, आंध्रा से जगन रेड्डी रहे हो, मध्यप्रदेश से ज्योतिरादित्य सिंधिया रहे हो और अभी वर्तमान में राजस्थान से सचिन पायलट रहे हो।  जिस पार्टी का इतिहास ही ऐसा रहा हो मैं समझता हूं उसके फैसलों को लेकर चर्चा करना समय की बर्बादी के अलावा और कुछ भी नही है।

अर्जुन राम मेघवाल ने कहा कि कांग्रेस पार्टी की आज के राजस्थान निर्णय से यह बात फिर से सिद्ध हो गई कि कांग्रेस पार्टी में गांधी परिवार का ही नाम चलता है और पार्टी एक बार फिर वंशवाद की अमर बेल से मुक्त नहीं हो पाई है, दरअसल बीते सात दशकों में हमारे सामने कई उदाहरण है जो कांग्रेस पार्टी में नेता, प्रधानमंत्री, अध्यक्ष, और उपाध्यक्ष या तो गांधी परिवार से रहे या फिर उन्हें थौपा गया।