चिकित्सा मंत्री राठौड़ के हाथों बीकानेर पीसीपीएनडीटी समन्वयक महेंद्र सिंह चारण का सम्मान, डॉ. मीना आसोपा भी रहीं मौजूद

0


बीकानेर, (सीएनएन)। ताबड़-तोड़ डिकोय ऑपरेशन द्वारा कन्या भ्रूण हत्या पर नकेल कसने के लिए बीकानेर पीसीपीएनडीटी समन्वयक महेंद्र सिंह चारण को चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री राजेंद्र राठौड़ व विशिष्ट शासन सचिव नवीन जैन द्वारा राज्य स्तर पर सम्मानित किया गया है। हेलो बीकानेर न्यूज नेटवर्क को प्राप्त विज्ञप्ति के अनुसार बीकानेर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. देवेन्द्र चौधरी ने बताया कि पीसीपीएनडीटी एक्ट 1994 के बेहतर क्रियान्वयन हेतु जयपुर में आयोजित अंतर्राज्यीय कार्यशाला के दौरान डिकोय ऑपरेशनों को सफलतापूर्वक अंजाम देने के लिए चारण को ये सम्मान मिला है। उनके अलावा राज्य पीसीपीएनडीटी प्रकोष्ठ के एडिशनल एसपी रघुवीर सिंह तथा बाड़मेर व झुंझनू पीसीपीएनडीटी समन्वयक को भी सम्मानित किया गया। राज्य सरकार द्वारा कन्या भ्रूण हत्या के विरुद्ध छेड़े गए महाअभियान के तहत अब तक 7 अंतर्राज्यीय सहित कुल 46 डिकोय ऑपरेशन कर कन्या भ्रूण हत्या के गुनाहगार दलालों व चिकित्सकों सलाखों के पीछे पहुँचाया गया है। इस पुनीत कार्य में राज्य स्तरीय दल के मजबूत स्तम्भ चारण ने कई बार जान जोखिम में डालकर बड़े-बड़े रैकेट का भांडा फोड़ किया है। चिकित्सा मंत्री द्वारा बेटी बचाओ बेटी पढाओ में महेंद्र सिंह के प्रयासों की भूरी भूरी प्रशंसा की गई। कार्यशाला में अध्यक्ष राज्य समुचित प्राधिकारी पीसीपीएनडीटी एवं मिशन निदेशक राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन नवीन जैन ने कहा कि पड़ौसी राज्यों के साथ समन्वित प्रयासों से अवैध भू्रण लिंग परीक्षण जैसे जघन्य अपराधों पर अकुंश लगाया जा सकता है। प्रदेश के एटोर्नी जनरल श्री जी.एस. गिल ने पीसीपीएनडीटी के विभिन्न कानूनी पहलुओं पर प्रकाश डाला एवं इस संबंध में जनचेतना जाग्रत करने पर बल दिया।कार्यशाला में बेटी बचाओ-बेटी पढाओ की राज्य ब्रांड एम्बेसडर दीया कुमारी, डॉ. मीना आसोपा, एसआरकेपीएस के राजन चौधरी सहित उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश, दिल्ली, हरियाणा एवं पंजाब के पीसीपीएनडीटी नोडल अधिकारियों ने हिस्सा लिया।