बीकानेर में पहली बार महिलाओ ने की लावारिस की अंत्येष्टि

0


हैलो बीकानेर, । एस.डी.कॉन्वेंट की ओर से संचालित शांति निवास वृद्ध आश्रम में कैंसर से लावारिस चन्द्ररन पुत्र राम स्वामी ई.रोड तमिलनाडू की शुक्रवार रात को मृत्यु हो गई थी। उनके पार्थिव शरीर देह की शनिवार को इंदिरा गांधी नहर परियोजना की कल्याणभूमि में हिन्दू रीति रिवाज से भारत विकास परिषद मीरां शाखा की अध्यक्ष श्रीमती शशि चुग, सचिव नीलू भार्गव व सदस्य सुशान भाटिया ने अंत्येष्टि की। बीकानेर में यह पहला मौका है जब किसी लावारिस की सामाजिक एवं स्वयं सेवी संस्थाओं की महिलाओं ने श्मशान में स्वयं जाकर अंत्येष्टि की। उधर श्रीमती शशि के पति समाज सेवी नरेश चुग ने शनिवार को ही हरिद्वार में बीकानेर के विभिन्न शमशान गृहो से संकलित लावारिशो की अस्थियो का विसर्जन वैदिक परम्परानुसार गंगा जी में किया। चन्द्ररन को आचार्य तुलसी चिकित्सा एवं अनुसंधान केन्द्र, बीकानेर की ओर से वृद्ध आश्रम में करीब एक माह पूर्व लावारिस व बीमारी की हालत में भिजवाया गया था। आश्रम की प्रभारी सिस्टर उदया ने बताया कि दिवंगत चन्द्ररन का नियमित कैंसर अस्पताल में सेक सहित इलाज करवाया जा रहा था।

034

कैंसर अस्पताल के चिकित्सक ने आश्रम में उसके अंतिम समय में भी बचाने के प्रयास किए लेकिन वह बच नहीं सका। लावारिस की आत्मशांति के लिए कल्याणभूमि में किशोर गांधी के नेतृत्व में तथा शांति निवास आश्रम में सिस्टर के सान्निध्य में विशेष प्रार्थना की गई। फोटो कैप्शन भारत विकास परिषद, मीरां शाखा की अध्यक्ष श्रीमती शशि चुग, सचिव नीलू भार्गव व सदस्य सुशासन भाटिया इंदिरा गांधी नहर परियोजना कॉलोनी की कल्याणभूमि में 3 जून 2017को लावारिस तमिलनाडू के चन्द्ररन की अंत्येष्टि करते हुए।