शान्ति निकेतन में नगर विकास न्यास के चैयरमेन महावीर रांका के हुआ स्वागत

0


बीकानेर। प्राचीन समय से भारत में धर्मनीति एवं राजनीति का साथ चलता रहा है। ये उद्गार साध्वीश्री लावण्यश्री जी ने आज शान्ति निकेतन में नगर विकास न्यास के चैयरमेन महावीर रांका के स्वागत व शुभकामना समारोह को सम्बोधित करते हुए कही। यह कार्यक्रम आचार्य तुलसी शान्ति प्रतिष्ठान के तत्वावधान में सम्पूर्ण तेरापंथ समाज की संस्थाओं के साथ आयोजित किया गया। साध्वी लावण्यश्री जी ने कहा कि राजनीति पर धर्मनीति का अंकुष रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि रांका युवा है, युवाओं में जोष होता है पर साथ में होष के साथ विनम्रता, सहिष्णुता व क्षमाषिलता के गुण भी पल्लवित होते रहें।
साध्वी प्रबलयषाजी ने कहा कि पुस्तक में भूमिका का जो महत्व होता है, वही महत्व समाज में पद का होता है। उन्होंने कहा कि जिस समाज व परिवार के व्यक्ति को उपलब्धि होती है तो उस प्रसन्नता को शब्दों में व्यक्त नहीं किया जा सकता है। उन्होंने रांका के प्रति शुभकामना करते हुए कहा कि समय, शक्ति व श्रम तीनों शक्तियों का समागम करके तेरापंथ के गौरव को बढ़ायें।
समारोह का शुभारम्भ करते हुए आचार्य तुलसी शान्ति प्रतिष्ठान के महामंत्री जैन लूणकरण छाजेड़ ने कहा कि यह तेरापंथ समाज के लिए गौरव का विषय है कि आज नगर निगम के महापौर एवं नगर विकास न्यास के चैयरमेन इस समाज से है। उन्होंने कहा कि नैतिकता का शक्तिपीठ से ऊर्जा प्राप्त करके बीकानेर के विकास में नया इतिहास रच कर समाज का गौरव बढ़ाएंगे। छाजेड़ ने रांका के नगर विकास न्यास के चैयरमेन बनने का रहस्योद्घाटन करते हुए कहा कि इनकी दृढ़ संकल्पषक्ति एवं शक्तिपीठ के प्रति आस्था से ही इस मुकाम तक पहुंचा सकी। श्री जैन श्वेताम्बर तेरापंथी सभा गंगाषहर के अध्यक्ष डॉ. पुनमचन्द तातेड़ ने कहा कि गंगाषहर व तेरापंथ समाज के लिए यह सुखद संयोग है कि महापौर व नगर विकास न्यास के चैयरमेन गंगाषहर के है। तातेड़ ने कहा कि एक व एक मिलकर ग्यारह होते है। उन्होंने आषा व्यक्त की कि अपनी कार्यकुषलता व प्रषासनिक क्षमता की छाप छोड़ेंगे व बीकानेर के विकास मे सांगोपांग व चिर स्मरणीय स्थायी कार्य करेंगे। तेरापंथ महिला मण्डल बीकानेर की श्रीमती दीपिका बोथरा ने कहा कि श्री रांका ने सकारात्मक कार्यों, सौहार्दपूर्ण व्यवहार से सभी के दिलों में अपनी जगह बनायी है। तेयुप गंगाषहर अध्यक्ष मनीष बाफना ने कहा कि पद आ जाने व स्वागत अभिनन्दन से जिम्मेदारियां व दायित्वों के साथ अपेक्षाएं भी बढ़ जाती है। तेरापंथ कन्या मण्डल की सुश्री कनकप्रभा गोलछा ने कहा कि यह समाज के लिए गौरव की बात है। तेरापंथ प्रोफेषनल फोरम के अध्यक्ष लूणकरण बोथरा, तेयुप बीकानेर के मत्री विक्रान्त नाहटा ने रांका के अद्वितिय कार्यकाल की शुभकामना दी। अणुव्रत समिति बीकानेर के अध्यक्ष इन्द्रचन्द सेठिया ने कहा कि जीवन में कुछ करने का जज्बा होने पर ही तो व्यक्ति हर सफलता प्राप्त कर सकता है। अणुव्रत समिति गंगाषहर के अध्यक्ष ने महावीर रांका को कर्मठ, सरल व नेक इंसान बताते हुए उनके सफल कार्यकाल की कामना की।
महिला मण्डल भीनासर से श्रीमती पुष्पा नौलखा व कन्या मण्डल बीकानेर अध्यक्ष सुश्री प्रज्ञा नौलखा ने रांका की कर्तव्य परायणता व कुषल प्रषासनिक क्षमता का उल्लेख किया। गंगाषहर तेरापंथ न्यास के न्यासी जतन दूगड़ ने कहा कि किसी भी व्यक्ति का चयन उसकी श्रेष्ठता साबित करने का द्योतक होता है। मगर उसे अपनी कार्यप्रणाली से श्रेष्ठता सिद्ध करनी होती है। दूगड़ ने कहा कि कहा जाता है कि पद कांटो का ताज होता है। पर कांटों में ही गुलाब खिलता है। उन्होंने आषा व्यक्त की कि रांका के कार्यकाल में बीकानेर का दिन दूना रात चौगुना विकास होगा। आचार्य तुलसी शान्ति प्रतिष्ठान प्रबंध मंडल सदस्या श्रीमती नयनतारा छलाणी ने कहा कि प्रषासनिक कार्यों में वेष्य समाज के व्यक्ति ने अपनी छाप छोड़ी है। उन्होंने इतिहास की चर्चा करते हुए कहा कि राजाओं के दीवान एवं खजांची हमेषा वैष्य समुदाय से होते थे। उन्होंने सुन्दर, स्वस्थ, ग्रीन व सुरक्षित बीकानेर बनाने की अपेक्षा रांका व चौपड़ा से की।
अपने उद्गार व्यक्त करते हुए महावीर रांका ने कहा कि शपथ ग्रहण करने से पूर्व नैतिकता का शक्तिपीठ पर श्रद्धा व्यक्त की तथा मैं अपना कार्यकाल पूर्ण नैतिकता के साथ सम्पन्न करूंगा। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने जब कहा कि यु.आई.टी. पर ़ऋण है तो बीकानेर से साथ गए जनप्रतिनिधियों ने कहा कि बनियें का बेटा है, वह इसे घाटे से लाभ में लाकर छोड़ेगा। उन्होंने समाज का आभार ज्ञापित करते हुए सदैव सहयोग की अपेक्षा की तथा विकास कार्यों में गतिषील रहने का आष्वासन दिया।


कार्यक्रम के अध्यक्ष नारायण चौपड़ा ने कहा कि जिम्मेदारी आने पर व्यक्ति को हर क्षण जागृत व सतर्क रहना पड़ता है। उन्होंने कहा कि महावीर रांका इस पद के लिए सबसे उपयुक्त व्यक्ति थे। उन्होंने कहा रांका सहज,सुगम्य, सरल व्यक्तित्व के धनी हैं उनका कार्यकाल सफल हो। चौपड़ा ने कहा कि हम दोनांे मिलकर ऐसा कार्य करेंगे कि समाज का नाम रोषन हो। तेरापंथ सभा अध्यक्ष किषन बैद ने अभिनन्दन पत्र का वाचन किया।
समारोह में गंगाषहर, भीनासर व बीकानेर के अनेक गणमान्य नागरिक उपस्थित हुए। रांका को मोतियों की माला व पताकाओं से लाद दिया तथा साहित्य, स्मृतिचिन्ह से अभिनन्दन पत्र संयुक्त रूप से ममता व महावीर रांका को भेंट करके सम्मानित किया। तेरापंथ महिला मण्डल अध्यक्ष रेणु बाफना,प्रो. सुमेरचन्द जैन सहित अनेक व्यक्तियों ने अपने उद्गार व्यक्त करते हुए शुभकामना प्रेषित की। कार्यक्रम का शुभारम्भ महिला मण्डल ने महावीर अष्टकसे किया तथा संचालन जैन लूणकरण छाजेड़ ने किया।