राज्य सरकार के बनाये गये नियम 17 के आधार पर आगामी आदेश तक बैठक को किया स्थगित – सभापति सैनी

0
चूरू, नगर परिषद में एम्पावर्ड बैठक को सम्बोधित करती सभापति पायल सैनी




हैलो बीकानेर न्यूज नेटवर्क, चूरू, जगदीश सोनी,  नगर परिषद में सभापति पायल सैनी द्वारा एम्पावर्ड बैठक को रविवार को स्थगित करने का आदेश जारी किया था। लेकिन आयुक्त रजत जैन एक ही फाईल करने के लिए  अपने ऑफिस में एक ही कर्मचारी के साथमा एम्पावर्ड बैठक कर रहा था। जबकि उक्त फाईल का दावा विभिन्न न्यायालयो में मामला विचाराधिन है।

 

 

फिर भी आयुक्त किसी के दबाव में राजनीती के चलते अपनि हटधर्मिता से एम्पावर्ड बैठक करना चाहता था जब की गरिब लोगो की फायलों को एम्पावर्ड बैठक में नही लिया गया वह एक व्यक्ति विशेष की फााईल के लिए एम्पावर्ड बैठक  बुला रखी थी। सभापति ने कहा कि बैठक में एक ही फाईल के दो एजेन्डे में लेकर की कैसे की जाती है जबकी  900 पेनडिंग है..एक एक फााईल का निस्तारण किया जाएगा।

 

 

पार्षदों ने कहा कि बैठक में आपका अपना हित है। इसी दौरान पार्षदों ने आयुक्त के खिलाफ एक ही फाईल के दो एजेन्डे पर कार्य करने पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया। जब भ्रष्टाचार का आरोप लगाया तो आयुक्त जैन ने कहा कि में फाईल करूगां डंप पिसम सभापति पायल सैनी ने कहा कि करीब पांच दिन पहले आयुक्त रजत जैन का पदस्थापन हुआ था। आयुक्त को 15 दिन के लिए सवाई माधोपुर के साथा चूरू नगर परिषद लगाया गया है। आयुक्त का पदभार ग्रहण करते हुए एक ही फाईल को लेकर एम्पावर्ड की बैठक रखी गई थी।

 

 

सभापति ने कहा कि आजतक जब भी कोई मिटींग रखी गई थी। वो मिटींग सभाकक्ष में की जाती है। लेकिन आयुक्त ने अपने ही कक्ष में ही एम्पावर्ड बैठक ले रहे थे।  37 पार्षदों ने बैठक को लेकर विरोध जताया गया था। 37 पार्षदों के हस्ताक्षरयुक्त पत्र देकर बैठक को स्थगित करने के लिए आयुक्त को कहा गया था लेकिन उसने नही मानी इस बात की जानकारी लगने पर सभापति सहित पार्षदों वहां पर पहुंचे। पार्षदों ने 800 से भी ज्यादा फाईलों को एजेन्डे में लेकर सभाकक्ष में जनप्रतिनिधियों को अवगत कराकर बैठक को करने पर जोर दिया। लेकिन पुलिस की मौजूदगी में आयुक्त व पार्षदों के बीच आयोजित बैठक को लेकर कहासुनी होती रही है।

 

 

पार्षदों ने कहा कि हम जनता के प्रतिनिधि है। हमारे वार्ड में लोगों की फाईल पेन्डींग पड़ी है। वो चक्क्र लगाते रहते है, और ये पैसे फाईल कर रहा है।इससे भ्रष्टाचार की बू आती है। लेकिन आयुक्त ने बैठक को स्थगित नहंी करने की बात कही। पार्षदों ने कहा कि एसडीएम स्वयं बैठक को स्थगित करने के लिए आयुक्त को निर्देश दे चूके है। इसके बाद भी वे बैठक करने पर उतारू हो रहे है। मामला बढता देख पार्षदों ने आयुक्त के खिलाफ नारेबाजी करना शुरू कर दिया। ऐसे में एकबारगी माहौल गर्मा गया।

 

 

इस दौरान वहां मौजूद एसडीएम मेहूल कुमार व पुलिसकर्मियों ने समझाईश कर मामले को शांत करने का प्रयास किया। काफी देर चली तनातनी के बाद बैठक स्थगित करने के आदेश पर मामला शांत हुआ। सभापति ने जब आयुक्त से डिस्पेच रजिस्ट्रर मांगा तो आयुक्त ने कहा कि डिस्पेच रजिस्ट्रर कर्मचारी के पास है। फिर सभापति ने कर्मचारी को बुलाया और पुछा कि डिस्पेच रजिस्ट्रर कहां है। तब कर्मचारी ने कहा कि आयुक्त के पास है। तब आयुक्त ने कहा कि मेरे पास अभी नहीं है। मैं डिस्पेच रजिस्ट्रर को देखकर दे दूंगा।

 

 

लेकिन जब पार्षद संजय भाटी ने कहा कि आपकी कुर्सी के नीचे थैले में क्या है। तब आयुक्त ने कहा कि मुझे पता नहीं था कि यहां पर थैला पड़ा है। फिर थैले में डिस्पेच रजिस्टर व फाईल निकाली।.बाद में आयुक्त ने सभापति को डिस्पेच रजिस्ट्रर सौंपा। सभापति ने बताया कि पार्षदों द्वारा अपने ज्ञापन में बैठक में रखे गये एजेण्डा में भारी रूपये को लेकर किसी व्यक्ति विशेष को लाभ पहुंचाने व भ्रष्टाचार होने का आरोप लगाया गया था।

 

 

ज्ञापन को मद्देनजर रखते हुए कार्यवाही को सुचारू रूप से चालु नहीं होने से अव्यवस्था फैलाने की स्थिति में आज की एम्पावर्ड कमेटी को राजस्थान नगरपालिका अधिनियम 2009 की धारा 51 व 52 के साथ सपठित धारा द्वारा प्रदत शक्तियों का प्रयोग करते हुए राज्य सरकार द्वारा बनाये गये नियम 17 के आधार पर आगामी आदेश तक बैठक को स्थगित किया जाता है।