राजस्थानी भाषा की मान्यता के लिए संचालित ‘संकल्प-यात्रा’ गुरुवार को पंहुची जस्सूसर गेट के पास

0


बीकानेर,। बीकानेर के तत्वावधान में राजस्थानी भाषा की मान्यता के लिए संचालित ‘संकल्प-यात्रा’ गुरुवार को जस्सूसर गेट के पास बरसलपुर हाउस पूर्व मंत्री देवी सिंह भाटी के आवास के बाहर सैंकड़ों समर्थकों के हस्ताक्षरों के साथ संयोजक उपमहापौर अशोक आचार्य के नेतृत्व में आयोजित की गई।
संकल्प यात्रा में भाजपा नेता अंशुमान सिंह भाटी, पार्षद श्याम सुंदर चांडक, भंवरलाल उपाध्याय, युवा छात्र नेता दिनेश ओझा, विजय उपाध्याय आदि अनेक गणमान्य जनों ने हस्ताक्षर कर राजस्थानी की मांग पर केंद्र सरकार को संवेदनशीलता के साथ इस पर जल्द सकारात्मक निर्णय करने की बात कही। उपमहापौर अशोक आचार्य ने कहा कि राजस्थान सरकार को इस संबंध में शीघ्र कार्यवाही करते हुए जन भावनाओं का सम्मान करेगी, ऐसे प्रयास किया जाएगा। भाजपा नेता अंशुमान सिंह भाटी ने कहा कि हमें उम्मीद है कि मान्यता जल्दी ही मिलने वाली है। यह हमारी युवा पीढ़ी के विकास और उत्थान के मार्ग को आगे बढ़ाने वाला मजबूत कदन होगा।
मुक्ति के सचिव कवि-कथाकार राजेन्द्र जोशी ने मान्यता के लिए लोगों को संकल्प दिलाते हुए हस्ताक्षर करवाए जाने से उत्साह और उम्मीद का वातावरण बना है। जोशी ने कहा कि बीकानेर के विभिन्न क्षेत्रों में इस संकल्प यात्रा से जन जन की भावनाओं का पता चलता है कि सभी मान्यता के लिए उत्सुक हैं। कहानीकार व्यंग्यकार कहानीकार बुलाकी शर्मा ने कहा कि भाषा, साहित्य और संस्कृति के प्रति जनता की जागरूकता और उत्साह से प्रतीत होता है कि जल्द ही मान्यता मिलेगी, यह हमरा अधिकार है। कवि-आलोचक डॉ. नीरज दइया ने राजस्थानी भाषा की मान्यता से होने वाले लाभ पर विस्तार से जानकारी प्रदान करते हुए कहा कि हम सब की अस्मिता के लिए भाषा को मान्यता दिलाना अनिवार्य है।
संकल्प यात्रा में हस्ताक्षर करने और समर्थन देने वालों में साहित्यकार नवनीत पांडे,डॉक्टर अजय जोशी, भगवान दास पडिहार, प्रशांत जैन आदि अनेक गणमान्य जन उपस्थित हुए। हस्ताक्षर करने वालों में बड़े-बुजुर्ग, पुरुष-महिलाओं के साथ युवा विद्यार्थियों में उत्साह के साथ संकल्प को जल्द पूरा करवाने में भागीदारी निभाने निर्णय हृदय स्पर्शी रहा।