जैविक खेती को बढ़ावा दें किसानः जिला कलक्टर

0


साधासर में रात्रि चौपाल आयोजित
हैलो बीकानेर,। जिला कलक्टर वेदप्रकाश की मौजूदगी में गुरूवार देररात साधासर के राजकीय आदर्श उच्च विद्यालय में आयोजित रात्रि चौपाल में गिरते भू-जल स्तर पर चिंता व्यक्त की गई तथा किसानों को कम पानी वाली फसलें लेने का आह््वान किया गया। साथ ही जैविक खेती को बढ़ावा देने पर भी विचार विमर्श हुआ।
सैकड़ों ग्रामीणों की मौजूदगी में आयोजित चौपाल में जिला कलक्टर ने कहा कि अति दोहन के कारण भू-जल प्रति वर्ष लगभग आठ फीट गहरा हो रहा है। यह अत्यंत चिंताजनक है। उन्होंने कहा कि हमें इसके प्रति जागरूक होना होगा, अन्यथा भविष्य में अत्यंत विकट परिस्थितियां पैदा हो जाएंगी। उन्होंने कहा कि गिरते भूजल की स्थिति को देखते हुए किसानों को कम पानी वाली खेती की ओर अग्रसर होना होगा। समय एवं परिस्थिति की मांग के अनुसार क्रॉप पेटर्न में परिवर्तन किया जाए। उन्होंने कहा कि भूमिगत जल के अत्यधिक दोहन से भूमि लवणीय हो रही है। इससे जमीन की उर्वरा शक्ति भी प्रभावित हो रही है। उन्होंने जैविक खेती की ओर बढ़ने का आह्वान भी किया। उन्होंने कहा कि किसान मूंगफली के स्थान पर तिल और चने की खेती करने का सुझाव दिया।
जिला कलक्टर ने प्रधानमंत्राी फसल बीमा योजना की जानकारी दी तथा अधिक से अधिक किसानों को इससे जोड़ने की बात कही। उन्होंने कहा कि जैतून की खेती को बढ़ावा दें। जैतून को सुख एवं समृद्धि का प्रतीक माना जाता है। उन्होंने कहा कि अब समय आ गया है कि किसान, आमदनी का चक्र बनाए। कृषि विभाग के अधिकारियों ने आलू, प्याज एवं खेजड़ी के उत्पादन पर जोर दिया। उन्होंने बागवानी फसलों की ओर बढ़ने का आह्वान किया।
जनकल्याणकारी योजनाओं की जानकारी लें ग्रामीण
जिला कलक्टर ने मुख्यमंत्राी राजश्री योजना, भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना, पालनहार, श्रमिक कल्याण योजनाओं सहित विभिनन योजनाओं के बारे में बताया तथा कहा कि ग्रामीण इन योजनाओं की जानकारी लें तथा लाभ उठाएं। इस दौरान ग्रामीणों द्वारा गांव में पेयजल समस्या के समाधान, विद्युत के ढीले तार कसवाने, सड़क बनवाने, पशु चिकित्सालय खुलवाने, उप स्वास्थ्य केन्द्र को पीएचसी में क्रमोन्नत करवाने सहित विभिन्न मांगें रखीं। इस संबंध में जिला कलक्टर ने कार्रवाई के लिए संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया। इस अवसर पर उपखण्ड अधिकारी कन्हैयालाल सोनगरा, बीडीओ ऋतुराज महला सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी मौजूद थे।