त्योहरी सीजन में यात्री वाहनों की बिक्री ने पकड़ी रफ्तार

0
hellobikaner.com




नई दिल्ली hellobikaner.com  त्योहारी सीजन में आयी जबरदस्त मांग के बल पर इस वर्ष अक्टूबर में देश में यात्री वाहनों की मांग में जबदस्त तेजी रही है जबकि ग्रामीण क्षेत्रों में मांग सुस्त रहने से दोपहिया वाहनों की मांग सुस्त रही है। अक्टूबर 2022 में कुल मिलाकर 291113 यात्री वाहनों की बिक्री हुयी जबकि पिछले वर्ष इस महीने में यह संख्या 226353 रही थी।

 


वाहन निर्माता कंपनियों के शीर्ष संगठन सोसायटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चरर्स (सियाम) द्वारा आज यहां जारी आंकड़ों के अनुसार इस महीने में देश से यात्री वाहनों निर्यात में भी तेजी रही है। अक्टूबर 2021 में 3966 वाहन निर्यात किये गये थे जो इस वर्ष अक्टूबर में बढ़कर 47660 वाहनों पर पहुंच गया।

 


इसी तरह से तिपहिया वाहनों की मांग में तेजी देखी गयी है। अक्टूबर 2021 में कुल 31812 तिपहिया वाहनों की बिक्री हुयी जबकि इस वर्ष अक्टूबर में यह संख्या बढ़कर 54154 पर पहुंच गयी है।

 


सियाम के अनुसार दोपहिया वाहनों की मांग में कोई विशेष बढ़ोतरी नहीं हुयी। अक्टूबर 2022 में कुल मिलाकर 1577694 दोपहिया वाहनों की देश में बिक्री हुयी जबकि पिछले वर्ष इसी महीने में यह संख्या 1552689 रही थी। इस महीने में दोपहिया वाहनों के निर्यात में भारी कमी देखी गयी है। पिछले वर्ष अक्टूबर में 374072 दोपहिया वाहन निर्यात किये गये जबकि इस वर्ष अक्टूबर में यह संख्या घटकर 287319 वाहनों पर आ गयी।

 


सियाम के अध्यक्ष विनोद अग्रवाल ने इस पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुये कहा कि त्योहरी सीजन के साथ ही बेहतर बाजार धारणा के बल पर अक्टूबर में यात्री वाहनों की बिक्री में तेजी रही है। हालांकि ऊंची महंगाई और ब्याज दरों में जारी बढोतरी के कारण ग्रामीण क्षेत्रों में बिक्री कुछ प्रभावित रही है। इसके कारण दोपहिया वाहनों की बिक्री में मामूली बढोतरी हुयी है।

 


सियाम के महानिदेशक राजेश मेनन ने कहा कि चालू वित्त वर्ष में अप्रैल से अक्टूबर के दौरान सात महीने में यात्री वाहनों की बिक्री में तेजी रही जबकि दोपहिया वाहनों की बिक्री इन सात महीने में अभी भी 2016 की समान अवधि की तुलना में कम रही है। उन्होंने कहा कि यात्री वाहनों के निर्यात में बढोतरी हो रही है जबकि तिपहिया और दोपहिया वाहनों के निर्यात में कमी आ रही है।

 

ख़बर सर्किल : करोड़ों भारतीयों का सपना टूटा, लेकिन इस शर्मनाक हार का जिम्मेदार कौन ?