पुष्करणा सावा की तिथियों में वर्षो से शास्त्रर्थ में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वालो का रमक झमक द्वारा किया गया सम्मान

0


बीकानेर। रमक झमक संस्था की ओर से बारह गुवाड़ चौक में पुष्करणा सावा शास्त्रार्थ में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले पंडितों का सम्मान किया गया। रमक झमक के राधे ओझा ने बताया कि पुष्करणा तिथि शास्त्रार्थ की व्यवस्था करने वाले झूठापोता परिवार अध्यक्ष नारायण व्यास, तिथि वार, नक्षत्र, मुहूर्त पर मंथन विश्लेषण पश्चात एकमत होकर शिव पार्वती के नाम विवाह तय करने में ज्योतिष व पंडितो में अग्रणीय भूमिका निभाने वाले वेद प्रतिष्ठान के संचालक वयोवृद्ध याज्ञीक सम्राट ज्योतिर्विद पं बंशीधर ओझा, कर्मकांडी पंचागकर्ता राजेंद्र किराड़ू, ज्योतिष रत्न कर्मकांडी पं अशोक महेश ओझा को भावनाथ आश्रम के अधिष्ठाता संत भावनाथ जी महाराज, पुजारी बाबा, उपमहापौर अशोक आचार्य, साक्षरता के राजेंद्र जोशी, समाजसेवी युवा नेता आनंद जोशी, श्यामसुन्दर छंगाणी, शेर महाराज, श्रीनारायण आचार्य, पार्षद नरेश जोशी, पूर्व पार्षद दुर्गादास छंगाणी, विप्र के कैलाश ओझा, कर्मचारी नेता रामकुमार व्यास ने सम्मान पत्र, श्रीफल, सावा की पुस्तक भेंट कर व माला, शॉल व रमक-झमक का ओपरना पहनाकर अभिनन्दन किया।
रमक झमक के अध्यक्ष प्रहलाद ओझा ‘भैरुँ’ ने सम्मानित विभूतियों के सावा में योगदान पर प्रकाश डाला।
सम्मान समारोह में संत भावनाथ जी महाराज ने कहा कि गौ माता और ब्राह्मणों का सम्मान होने से संसार प्रगति करता है साथ ही उन्होंने ब्राह्मणों को भी आगाह किया कि वे अपने संस्कार व कर्तव्य को समझे तथा गुटखा जर्दा सेवन करने से परहेज करें। याज्ञीक सम्राट ज्योतिर्विद बंसीधर ओझा ने कहा कि आज वास्तव में ये सम्मान बीकानेर की परंपरा, संस्कृति व आध्यत्मिक जगत का हुआ है इसलिए रमक झमक का साधुवाद है। डॉ विजय आचार्य ने आभार व्यक्त किया। झूठापोता सावा समिति के परिवार की ओर से नारायण व्यास ने कहा कि लालानी कीकाणी व्यास सावा तिथि घोषणा का कार्य करती है लेकिन रमक झमक संपूर्ण सावा कार्यक्रम समापन तक कार्य करती रहती है। पंचागकर्ता राजेंद्र किराड़ू ने इस अवसर पर कहा कि रमक झमक के साथ उनके पंडितो की टीम भी सहयोग करेगी।

अभिनन्दन समारोह में आर. के सुरदासानी, देवकीनंदन ‘विशेष’, राकेश बिस्सा, दिलीप रंगा, डॉ अजय जोशी, बी.डी हर्ष, सुनील बोड़ा, भरत पुरोहित, एड. गोपाल पुरोहित, लाल बाबा के प्रतिनिधि के रूप में सत्यनाराण किराड़ू, गौतम किराड़ू, हरिकिशन रंगा, गोकुल व्यास, एन डी जोशी, भैरुँ रतन छंगाणी, मनमोहन व्यास, धनराज रंगा, पंकज हर्ष, शिव छंगाणी, ए के चूरा, बाबूराज छंगाणी, कैलाश महाराज, अभिषेक भादाणी, पं सूर्यनारायण, अर्जुन जोशी, शिवकुमार चूरा आदि अनेक गणमान्य लोग उपस्थित हुए। फोटो राजेश छगानी