नोहर hellobikaner.com (बालकृष्ण व्यास) कबड्डी खेल में छह बार राष्ट्रीय स्तर पर खेलने वाली निकटवर्ती गांव परलीका की छात्रा सुखविंदर कौर ने अपना दर्द बयां करते हुए कहा है कि आज भी खेल प्रतिभाओ के सामने पक्षपात एक कड़ी चुनोती पेश कर रहा है।

सुखविंदर कौर ने परलीका लाइव के साहित्यकार एंव पत्रकार विनोद स्वामी को दिए गए साक्षात्कार के दौरान यह बात कही। गरीब किसान परिवार से ताल्लुक रखने वाली सुखविंदर ने बताया कि कमजोर आर्थिक स्थिति वाले परिवारों की खेल प्रतिभाओ के सामने अनेक संकट पेश आते है उसे भी इन संकटो का कई बार सामना करना पड़ा लेकिन उनकी माता ने सदैव उसे प्रोत्साहित करते हुए आगे बढ़ने की प्रेरणा दी । सुखविंदर के माता पिता मेहनत मजदूरी कर अपना गुजर बसर करते है।

सुखविंदर ने बताया कि विद्यालय के पीटीआई प्रयाग गोदारा ने उसकी हौसला अफजाई करते हुए हर सम्भव मदद की । हुनरमंद सुखविंदर कौर ने गुजरात , उड़ीसा ओर दिल्ली में हुई कबड्डी प्रतियोगिता में राष्ट्रीय स्तर पर अच्छा प्रदर्शन किया । उसे खेल में अच्छे प्रदर्शन के लिए अनेक पुरुस्कार भी मिल चुके है । सुखविंदर कौर ने बताया कि चयनकर्ता चयन के समय पक्षपात करते है जिससे प्रतिभावान खिलाड़ी मैदान पर जाने से वंचित रह जाते है ।सुखविंदर ने बताया कि आर्थिक हालातो की वजह से केवल घर पर ही अभ्यास कर पाती है सुखविंदर ने सरकार से मांग की है कि लड़कियों को भी अपने खेल के अभ्यास के लिए पर्याप्त सुविधाएं मुहैया करवाई जाए।

साहित्यकार विनोद स्वामी ने कबड्डी के माध्यम से गांव तहसील जिले ओर राज्य का नाम रोशन करने वाली सुखविंदर कौर के लिए अपनी शुभकामनाये देते हुए सरकार से मांग की कि ऐसे प्रतिभावान खिलाड़ियों को हर स्तर पर सरकारी मदद मिलनी चाहिए ।