स्वर्ण पदक विजेता झाझड़िया का भव्य अभिनंदन

0


विक्ट्री सेरेमनी में तिरंगे को सर्वोच्च ऊंचाई पर देखकर भाव विभोर हो गए झाझडिया
पंचायत समिति प्रांगण में 51 किलों की माला पहनाकर किया स्वागत

सादुलपुर,(मदनमोहन आचार्य ) पैरालिंपिक में दो बार स्वर्ण पदक जीतकर वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने वाले देवेंद्र झाझड़िया का सोमवार को सादुलपुर पहुंचने पर चूरू रोड स्थित प्रवेश द्वार पर नगरपालिका अध्यक्ष जगदीश बैरासरिया, भाजपा नगर मंडल अध्यक्ष छबीलचन्द बैरासरिया, देहात अध्यक्ष सतवीर पूनियां, पूर्व नगर पालिका चैयरमेन जयभगवान सैनी, प्रमुख समाज सेवी रामावतार बैरासरिया,शारीरिक शिक्षक यासीन खां चौहान,ए.बी.वी.पी.के तहसील प्रमुख छात्र नेता कृष्ण भाकर एंव विप्र फाऊंडेशन तथा विभिन्न सरकारी तथा निजि विद्यालयों के संचालकों के नेतृत्व में छात्राओं ने पुष्प वर्षा कर स्वागत किया। जूलूस के रूप में पंचायत समिति पहुंचे देवेन्द्र झाझडिया का भाजपा की ओर से स्वागत किया गया। समाज कल्याण बोर्ड की अध्यक्ष कमला कस्वां की अध्यक्षता में आयोजित अभिनंदन समारोह में सांसद राहुल कस्वां, भाजपा के जन प्रिय नेता पूर्व सांसद रामसिंह कस्वां, पालिका अध्यक्ष जगदीश बैरासरीयां की ओर से 51 किलो की माला पहनाकर झाझड़िया का स्वागत किया गया। इस मौके पर इस मौके झाझडिया ने कहा कि पदक जीतने के बाद विक्ट्री सेरेमनी में तिरंगे को सर्वोच्च ऊंचाई पर देखकर वे भाव विभोर हो गए। इस दौरान उन्होंने संघर्ष की कहानी भी सुनाई और युवाओं से आह्नान किया कि इंसान के जीवन में कितनी भी बड़ी समस्या आए कभी भी हिम्मत नही हारनी चाहिए। उनकी तमन्ना है कि देश के लिए एक नहीं सौ देवेंद्र तैयार हो। वहीं युवा सांसद राहुल कस्वां ने कहां की देवेन्द्र इतनी विपरित स्थितियो मे गोल्ड मेडल लेकर आये है ये हमारे लिए बडे ही गोरव की बात है। उन्होने कहा कि धन्य है वो मात-पिता जिसने देवेन्द्र जैसे सपूत को पैदा किया। सांसद कस्वां ने कहा कि हर गांव मे देवेन्द्र को ले जाना चहिए ओर देवेन्द्र का स्वागत करना चाहिए ताकि ओर युवा खिलाडियों को देवेन्द्र से प्रेरणा मिल सके। इस अवसर पर देवेन्द्र झाझडिया के पिता रामसिंह झाझडिया,एएसपी नितेश आर्य, पूलिस उप अधीक्षक निर्मल शर्मा, थानाधिकारी अनिल कुमार बिश्नोई, हमीरवास थानाधिकारी पुष्पेन्द्र झाझड़िया, सिद्वमुख थानाधिकारी मदनलाल बिश्नोई, भाजपा नगर मंडल अध्यक्ष छबीलचंद बैरासरीया,भजपा देहात मंडल अध्यक्ष सतवीर पुनियां, रामावतार बैरासरीया, जिला परिषद सदस्य कुलदीप पुनियां, महेन्द्र सुरतपुरा,देवेन्द्र गोदारा, प्रदीप अत्री, अजय नेहरू शर्मा, शिक्षक नेता मनोज पुनियां सहित बड़ी संख्यां मे लोग उपस्थित थे। संचालन जिला परिषद सदस्य कुलदीप पूनियां ने किया।

promotion-banner-medai-04
इन्होने भी किया सम्मानितः- रियो पैरालिंपिक में दो बार स्वर्ण पदक विजेता देवेंद्र झाझड़िया का राजस्थान प्रदेश सचिव कृष्णा पूनियां,कोच विरेन्द्रसिंह पूनियां,सतीश गागडवास और टिकमाणी धर्मशाला के पास देवन्द्र पूनियां,पूनमचंद नाई,राजकुमार गढवाल तथा बाजार में एबीवीपी के कार्यकर्ता एंव संयुक्त व्यापार मण्डल के अध्यक्ष पवन मोहता,कमल सेठिया,राजकुमार बंसल,हैदर अली,राहुल पारीक, जिला परिषद सदस्य कुलदीप पूनियां,अरिहन्त कोचर,अशोक सोनी,डीपी वर्मा सहित अनेक लोगों ने रियो पैरालिंपिक में दो बार स्वर्ण पदक विजेता देवेंद्र झाझड़िया का अभिनंदन किया।
खुली जीप में आए देवेन्द्र का जगह-जगह स्वागतः रियो पैरालिंपिक में स्वर्ण पदक जीतकर पहली बार सादुलपुर पहुंचे देवेंद्र झाझड़िया का सादुलपुर सांखू तिराहे स्थित प्रवेश द्वार पर भव्य स्वागत किया तथा खुली जीप में जूलूस के साथ रवाना होकर रेलवे स्टेशन,पिलानी मोड,शीतला बाजार, मैन बाजार घंटाघर होते हुए पंचायत समिति प्रांगण पहुंचे। जूलूस के दौरान स्वर्ण पदक विजेता झाझडिया का खेल प्रेमियों सहित अन्य लोगों ने द्वार बनाकर जगह जगह स्वागत द्वार बनाकर पुष्प वर्षा एंव मालाऐं पहनाकर स्वागत किया।

झाझड़िया का लड्डूओं से तोल कर किया अभिनंदन

03
शहर के सार्वजनकि निर्माण विभाग परिसर में सार्वजनकि निर्माण के अधिशाषी अभियन्ता महेन्द्र झाझडिया ने रियो पैरालिंपिक में दो बार स्वर्ण पदक विजेता देवेंद्र झाझड़िया को साफा,शॉल ओढाकर तथा श्रीफल व स्मृति चिन्ह भेंट कर स्वागत किया वहीं सहायक अभियन्ता भंवरलाल कुलडिया के सानिध्य में के नेतृत्व में कनिष्ठ अभियन्ता विकास गोयल एंव लिखमीचंद, पीडी जांगिड,बीरबल,महमूद सहित ठेकदार भवानीसिंह पूनियां, अजय नेहरू शर्मा,विनोद धेरड,प्रताप पूनियां,दलीप जांगिड,रामसिंह जांगिड,अशोक गढवाल,महेन्द झाझडिया,मुकेश पारीक,किशन लाल,प्रहलाद,जयसिंह जांगिड आदि अन्य ठेकेदारों ने देवेन्द्र झाझडिया को लड्डूओं से तोल कर एंव मुह मीठा करवाकर अभिनंदन किया तथा प्रमुख समाज सेवी रामावतार बैरासरिया,शारीरिक शिक्षक यासीन खां चौहान,अविनाश आचार्य आदि ने मालाऐं पहनाकर स्वागत।