राजस्थानी मान्यता के लिए बच्चों ने लिखे प्रधानमंत्री के नाम पोस्टकार्ड

0


म्हारी जबान रो ताळो खोलो

लूणकरनसर, विश्व मातृभाषा दिवस पर समीपवर्ती गोपल्याण के इक्कीस एकेडमी फॉर एक्सीलेंस में विद्यार्थियों ने प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री के नाम पोस्टकार्ड लिखकर राजस्थानी भाषा की संवैधानिक मान्यता की मांग की।

संस्थान के सचिव आशा शर्मा ने बताया कि विद्यार्थियों ने ‘म्हारी जबान रो ताळो खोलो’ शीर्षक से प्रधानमंत्री के नाम भेजें पोस्टकार्ड में राजस्थानी को भारतीय संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल होने का वाजिब हक देने की मांग की। इस अवसर पर संस्थान के प्रधानाचार्य राजूराम बिजारणियां ने कहा कि राजस्थानी विश्व की समृद्धता में भाषाओं में से एक है विशाल शब्दकोश समृद्धि व्याकरण समृद्धि लोक साहित्य व समकालीन लेखन राजस्थानी को एक उत्कृष्ट भाषा का दर्जा दिलाने के लिए पर्याप्त है। राजस्थानी भाषा में राजस्थान की सुरंगी संस्कृति के संस्कार सुरक्षित है विद्यार्थियों ने मुख्यमंत्री को भेजे पोस्टकार्ड में राजस्थान में राजस्थानी को दूसरी राजभाषा घोषित करने, प्राथमिक शिक्षा का माध्यम बनाने, उच्च शिक्षा में राजस्थानी भाषा और साहित्य का अनिवार्य विषय के रूप में शामिल करने की मांग की गई। इस अवसर पर विद्यार्थियों ने कन्हैया लाल सेठिया की चर्चित कविता ‘धरती धोरा री’ का समवेत वाचन किया। कार्यक्रम में संस्थान के शिक्षक कृष्ण कुमार गोदारा, स्वाति शर्मा, जय श्री सारस्वत, दीपिका आदि ने भी विचार व्यक्त किए।