बीकानेर में स्थापित हुआ संभाग का सबसे ऊंचा तिरंगा, सात सौ लोगों ने दिया सहयोग

0




हैलो बीकानेर न्यूज नेटवर्क , hellobikaner.com  बीकानेर संभाग का सबसे ऊंचा तिरंगा शनिवार को संभागीय आयुक्त कार्यालय में स्थापित हुआ।

 

आपदा प्रबंधन एवं सहायता विभाग मंत्री गोविंद राम मेघवाल तथा ऊर्जा मंत्री भंवर सिंह भाटी ने रिमोट का बटन दबाकर इसे आरोहित किया। इस दौरान वहां मौजूद सैकड़ों लोगों ने भारत माता की जय और वंदे मातरम के उद्घोष के साथ माहौल को देशभक्ति मय कर दिया।

 

इस अवसर पर आपदा प्रबंधन मंत्री ने कहा कि तिरंगा प्रत्येक देशवासी की आन और स्वाभिमान का प्रतीक है। देश को आजादी दिलाने में असंख्य भक्तों ने अपना सर्वस्व बलिदान कर दिया। हमें इनके प्रति कृतज्ञता अर्पित करनी चाहिए।

 

उन्होंने कहा कि व्यापारी, अधिकारी, चिकित्सक और अधिवक्ता सहित लगभग 700 नागरिकों की सहभागिता से स्थापित यह तिरंगा बीकानेर को विशेष पहचान दिलाएगा। यहां से प्रतिदिन गुजरने वाले हजारों लोगों को इसके सम्मान का अवसर मिलेगा।

 

ऊर्जा मंत्री भंवर सिंह भाटी ने कहा कि संभाग का सबसे ऊंचा तिरंगा स्थापित होना बीकानेर के लिए गर्व का विषय है। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार संविधान ने 140 करोड़ लोगों को एक सूत्र में पिरोया है, उसी प्रकार तिरंगा भी समूचे राष्ट्र के सम्मान का प्रतीक है। उन्होंने इस नवाचार की सराहना की। इस अवसर पर आपदा प्रबंधन मंत्री ने संविधान की उद्देशिका का वाचन करवाया।

 

संभागीय आयुक्त डॉ. नीरज के. पवन ने बताया कि सात सौ लोगों द्वारा दो-दो हजार के सहयोग से 151 फीट का संभाग का सबसे ऊंचा तिरंगा स्थापित किया गया है। इस पर लगभग 14 लाख रुपए व्यय हुए हैं। इसका ध्वज 30 गुना 20 फुट आकार का है।

 

अतिरिक्त संभागीय आयुक्त एएच गोरी ने आभार जताया। इससे पहले बीएसएफ के बैंड द्वारा देशभक्ति से ओतप्रोत सुमधुर स्वर लहरियां बिखेरी गई। पुलिस के दस्ते ने गार्ड ऑफ ऑनर पेश किया।पुलिस एवं बीएसएफ बैंड और स्काउट गाइड द्वारा राष्ट्रगान प्रस्तुत किया गया। कार्यक्रम का संचालन संजय पुरोहित ने किया।

 

इस अवसर पर केश कला बोर्ड के अध्यक्ष महेंद्र गहलोत, भूदान यज्ञ बोर्ड के अध्यक्ष लक्ष्मण कड़वासरा, बीकानेर पंचायत समिति प्रधान लाल चंद आसोपा, जिला प्रभारी सचिव आलोक गुप्ता, महानिरीक्षक (पुलिस) ओमप्रकाश, जिला उद्योग केंद्र की जीएम मंजू नैन गोदारा, जिला उद्योग संघ के अध्यक्ष डीपी पच्चीसिया सहित अनेक लोग मौजूद रहे।