केन्द्रीय कृषि मंत्री श्री सिंह द्वारा वेटरनरी विश्वविद्यालय में पहली स्वामी विवेकानन्द की कांस्य प्रतिमा का अनावरण

0


छात्र संघ कार्यालय का किया उद्घाटन
वित्त राज्य मंत्री श्री मेघवाल और राज्य के कृषि मंत्री श्री सैनी ने भी की शिरकत

बीकानेर,। केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री राधामोहन सिंह ने शनिवार को वेटरनरी विश्वविद्यालय में नव स्थापित स्वामी विवेकानन्द की आदमकद साढे छह फीट की कांस्य प्रतिमा का अनावरण कर विश्वविद्यालय छात्र संघ कार्यालय का उद्घाटन किया। इस अवसर पर केन्द्रीय कृषि मंत्री श्री सिंह ने कहा कि युवाओं के प्रेरणास्त्रोत स्वामी जी के आदर्शों को हमें अपने व्यक्तिगत जीवन में अनुसरण करके कार्य संस्कृति को अपनाना है। विश्वविद्यालय में स्थापित स्वामी जी की प्रतिमा और 100 फुट ऊँचा लहराता तिरंगा हमें निरंतर प्रेरित करते रहेंगे। उन्होंने कहा कि गांव, गरीब और किसानों की समृद्धि सरकार की प्रतिबद्धता है। पशुधन राष्ट्र धन है व पशुचिकित्सा को मजबूत बनाकर ही पशुधन की रक्षा की जा सकेगी।

unnamed (2) unnamed (3) unnamed (4) unnamed (5)

पशुधन हमारी ग्रामीण और पारिवारिक अर्थव्यवस्था का एक मजबूत आधार है। सरकार ने अर्न्तराष्ट्रीय मानकों के अनुरूप पशुचिकित्सा शिक्षा शुरू करने के साथ-साथ स्वदेशी गौ नस्लों के संवर्द्धन कार्यों को तेजी से आगे बढ़ाया है। सरकार द्वारा भारतीय पशुचिकित्सा परिषद् की कार्यप्रणाली को मजबूत बनाकर नए पशुचिकित्सा महाविद्यालयों के छात्र-छात्राओं को सुविधाएं बढाई गई हैं। केन्द्रीय मंत्री श्री सिंह ने कहा कि अच्छी गुणवŸाा युक्त षिक्षा, नए अनुसंधान और तकनीक को किसानों तक पहुँचाने में विष्वविद्यालयों की अह्म भूमिका है, उन्होंने राजस्थान वेटरनरी विष्वविद्यालय द्वारा अपनी स्थापना के 6 वर्षों के अल्पकाल में देष के विष्वविद्यालयों में शीर्ष स्थान पाने पर छात्रों और षिक्षकों को बधाई दी। उन्होंने कहा कि विष्वविद्यालय ने इस समय में दस गुणा बजट बढ़ाकर अपना कॉरपस फंड भी स्थापित कर आत्मनिर्भरता हासिल की है जो अनुकरणीय है। वर्षा जल संरक्षण, सौर विद्युत ऊर्जा संयंत्र, डिजिटलाईजेषन और पषुचिकित्सा और शिक्षण में उन्नत तकनीकी का समावेष कर अग्रता हासिल की है। समारोह के विशिष्ट अतिथि केन्द्रीय वित्त एवं कॉरपोरेट मामलात के राज्य मंत्री श्री अर्जुनराम मेघवाल ने कहा कि 21वीं सदी भारत की होगी जिसमें युवाओं की अहम जिम्मेदारी है। स्वामी विवेकानन्द के आचार-विचार और जीवन शैली हमारे लिए प्रेरणादायी रही है। राजुवास में स्थापित विवेकानन्द की मूर्ति से प्रेरित होकर युवा उनके बताए हुए मार्ग पर चलकर चरित्रवान, संस्कारवान बनकर देश को महानतम बनाने में सहयोगी बन सकते हैं। विषिष्ट अतिथि के रूप में राज्य के कृषि एवं पषुपालन मंत्री श्री प्रभुलाल सैनी ने कहा कि स्वामी विवेकानंद की प्रतिमा युवाओं को सम्यक आचरण, संस्कार और व्यावहारिक जीवन जीने की प्रेरणा देती रहेगी। उन्होंने राजुवास द्वारा किए गए उत्कृष्ट कार्यों की सराहना करते हुए आषा जताई कि यहाँ के वैज्ञानिक राज्य में दुग्ध उत्पादन बढ़ाने में अपना महŸाी योगदान करेंगे। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए वेटरनरी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. ए.के. गहलोत ने कहा कि विश्वविद्यालय ने शैक्षणिक और तकनीकी संसाधनों में उत्कृष्टता हासिल की है। भारत सरकार के मानव संसाधन मंत्रालय ने तथा एक निजी वेबसाइट सहित चैन्नई के पर्ल फाउन्डेशन ने अपने राष्ट्रीय सर्वे में इस विश्वविद्यालय को शीर्षस्थ स्थान दिया है। अतिथियों ने विष्वविद्यालय परिसर में वृक्षारोपण किया। समारोह में केन्द्रीय कृषि मंत्री ने केन्द्रीय छात्र संघ अध्यक्ष लोकेश्वर सिंह शेखावत, महाविद्यालय छात्र संघ अध्यक्ष दिव्यम जाजोरिया और उनकी कार्यकारिणी सदस्यों को स्मृति चिन्ह प्रदान कर सम्मानित किया। छात्र कल्याण अधिष्ठाता प्रो. एस.सी. गोस्वामी ने सभी का आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर वेटरनरी कॉलेज अधिष्ठाता प्रो. जी.एस. मनोहर व सहायक अधिष्ठता छात्र कल्याण डॉ. अशोक डांगी मंचासीन थे। समारोह में श्री सत्य प्रकाष आचार्य सहित गणमान्य नागरिक, विष्वविद्यालय छात्र, षिक्षक व कर्मचारीगण मौजूद थे।