युवाओं ने भरें कुरीतियां मिटाने का संकल्प पत्र

0


पुष्करणा सावा
हैैलो बीकानेर । मल मास की समाप्ति के साथ ही जहाँ विवाह वाले घरो में औरते खरीदारी की तैयारी में लग गई है वही जिनके रिश्ते तय नही हो पैये हे वो अभी प्रयास रत है । दूसरी और घर घर में रीत रिवाज परम्पराए जो बढ़ गई है उनको लेकर लोगो में लेकर चिंता है और इसको कम करने के लिये प्रयास भी पहले से किये जा रहे है । इधर रमक झमक डॉट कॉम की युवा टीम भी इसके लिये गीत पैरोडी प्रस्तित के साथ आज कुरीतियो को मिटाने व् परम्परा को निभाने के लिए संकल्प पत्र भरवाये ।
युवाओं ने भरें कुरीतियां मिटाने का संकल्प पत्र स्वयं अपने विवाह में
DSC_0575 [Desktop Resolution]
पुष्करणा सावा में एक ही दिन में सेकड़ो शादियां होनी है इसी को ध्यान में रखते हुए रमक झमक द्वारा युवाओं व बड़ो से भी विवाह में कम खर्च करने व कुरीतियां कम करने का संकल्प दिलाया गया। युवाओं ने स्वयं के विवाह में पेचा, ओढा, मिलनी आदि की अतिवादिता को कम करने का संकल्प लिया। यह संकल्प पत्र बारह गुवाड़ चौक में पुजारी बाबा के सानिध्य में भरवाया गए। पुजारी बाबा ने कहा कि युवा इस संकल्प को ले कि वे स्वयं के विवाह में कुरीतियां ना लेने के साथ भी यह भी प्रयास करेंगे की वे अपने परिवार में भी होने वाले विवाह में परम्पराओं को ध्यान में रखते हुवे जो रीतियां आज कुरीतियों का रूप ले रही है उनको कम करने का प्रयास करेंगे। कुरीतियों को कम करने का यह अभियान रमक झमक द्वारा पिछले कई दिनों से जारी है जिसमे सावा में विवाह करने वाले हर परिवार तक यह सन्देश पहुँचाया जा रहा है। उपमहापौर अशोक आचार्य ने भी यह संकल्प पत्र भरा और यह कहा कि असल में युवा ही इस सावा को असल में सफल बना सकते है और समाज से कुरीतियों को दूर करना ही हमारा संकल्प होना चाहिए। रमक झमक के अध्यक्ष प्रह्लाद ओझा ‘भैरुँ’ ने कहा कि इस संकल्प पत्र में 100 से ज्यादा युवाओं ने हस्तक्षर किये व अपने व अपने परिवार में इस संकल्प को दिलाने की बात कही। इस अवसर पर पूर्व पार्षद दुर्गादास छंगाणी, पूर्व पार्षद श्रीलाल जोशी, ईश्वर महाराज, सीताराम छंगाणी, महेश छंगाणी सहित अन्य लोग इसके साक्षी बने। राधे ओझा ने बताया कि कल भी संकल्प पत्र भरवाये जायेंगे।