हैलो बीकानेर । देवस्थान राज्यमंत्री राजकुमार रिणवा ने कहा कि जन्म लेने वाले प्रत्येक जीव की मृत्यु निश्चित है, लेकिन जीवन काल में उसके द्वारा किए गए सत्कर्मों को सदैव याद रखा जाता है। रिणवा शनिवार को गौड़ सभा भवन में समाजसेवी, भामाशाह भागीरथ सारस्वत की स्मृति में आयोजित श्रद्धांजलि सभा को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि भागीरथ सारस्वत सतगुणों की खान थे। उन्होंने जीवनकाल में अपनी विशिष्ट पहचान बनाई। वे गरीब और जरूतरमंद व्यक्ति की सहायता के लिए सदैव तत्पर रहते थे।

उनका निधन बीकानेर के लिए अपूरणीय क्षति है। बीकानेर पश्चिम विधानसभा क्षेत्र के विधायक डाॅ. गोपाल कृष्ण जोशी ने कहा कि उन्होंने सर्वसमाज के प्रति समभाव के साथ अपना जीवन जीया। दूसरों की मदद करने के लिए वे सदैव तत्पर रहते। भामाशाह के रूप में उनके योगदान को कभी भुलाया नहीं जा सकेगा।

पूर्व मंत्री डाॅ. बी. डी. कल्ला ने कहा कि स्व. भागीरथ सारस्वत के मन में गरीबों के प्रति संवेदनाएं थीं। गांव के प्रति स्नेह था। उन्होंने परोपकार को सबसे बड़ा बताया तथा कहा कि भागीरथ सारस्वत पूरी जिंदगी इसी पथ पर चले। नवलगढ़ विधायक डाॅ. राजकुमार शर्मा ने कहा कि वे मिलनसार, हंसमुख एवं सहयोगात्मक प्रवृति के धनी थे। दूसरों को अपना बना लेना उनके जीवन की सबसे बड़ी खूबी थी। पूर्व महापौर भवानी शंकर शर्मा ने कहा कि वे दानवीर थे। समाज के पिछड़े वर्ग को आगे बढ़ाने के लिए दिया गया उनका योगदान सदैव स्मरणीय रहेगा।

डाॅ. मीना आसोपा ने कहा कि वे विराट व्यक्तित्व के धनी थे। हमें उनके जीवन से प्रेरणा लेनी चाहिए। गोपाल गहलोत ने कहा कि उन्होंने समाज एवं जाति की सीमाओं से ऊपर उठकर, सर्वजनहितार्थ कार्य किया। सुमित गोदारा ने कहा कि वे दूरदर्शी थे। ताराचंद सारस्वत ने कहा कि भागीरथ सास्वत जैसे परहित में काम आने वालों को समाज सदैव याद रखता है। इस दौरान यशपाल गहलोत, हजारी महाराज, जगदीश शर्मा, मगन पाणिचा, ओमप्रकाश सारस्वत,  सहित विभिन्न लोगों ने भागीरथ सारस्वत को शब्दांजलि अर्पित की।

इससे पहले देवस्थान राज्यमंत्री रिणवा सहित सभी ने भागीरथ सारस्वत के चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित की। पार्षद भगवती प्रसाद गौड़, भंवर पुरोहित, शहर महिला कांग्रेस अध्यक्ष सुनीता गौड़,  श्रीधर शर्मा,

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

*

code