बीकानेर। बीकानेर और देश की बेटी, बीएसएफ की पहली महिला अधिकारी ने पहले भी अपने कार्यो से खूब नाम रोशन किया है। अब इतिहास के बड़े बदलाव में ये पारीक बेटी एक ओर नाम दर्ज करवाने जा रही है आज़ादी के बाद पहली बार स्वतंत्रता दिवस पर बीएसएफ की परेड को कश्मीर श्रीनगर में तनुश्री पारीक लीड करेगी।
हाल ही में धारा 370 ओर 35 ए के हटने के बाद माहौल को शांत करने में अपना अमूल्य योगदान देने वाली इस बेटी का चयन श्रीनगर में होने वाले राज्य स्तरीय समारोह में बीएसएफ के कॉन्टिनगेंट का नेतृत्व के रूप में किया गया है।
तनुश्री पारीक बीकानेर का संक्षिप्त परिचय
भारत की प्रथम महिला असिस्टेन्ट कमाण्डेन्ट, बीएसफ सुश्री तनुश्री पारीक, बीकानेर ने विप्र समाज को अत्यन्त गौरवान्वित किया है। डॉ.शिवप्रसाद और मंजूदेवी की सुपुत्री तनुश्री की प्रारम्भिक शिक्षा सोफ़िया स्कूल बीकानेर में ही हुई। प्रारम्भ से कुछ नया करने की इच्छाशक्ति लिए इस प्रतिभा ने अपनी ग्वालियर में ट्रेनिंग में दूसरा स्थान लेकर तत्कालीन गृहमंत्री राजनाथसिंह जी से सम्मानित हुई।
इस उपलब्धि के कुछ ही समय पश्चात १०० एचीवर्स इन इंडिया द्वारा २६ जनवरी को नई दिल्ली में सम्मान हुवा। जिला कलेक्टर ने बेटी बचाओ अभियान की राजस्थान अम्बेसडर के लिए राज्य सरकार ने किया । आल इंडिया पारीक महासभा, पारीक कॉलेज समिति जयपुर, विप्र फाउंडेशन बीकानेर, पडायमाता ट्रस्ट बीकानेर, पारीक चौक सार्वजानिक सम्पति ट्रस्ट, नोबेल फाउंडेशन लुधियाना तथा राजस्थान पत्रिका जयपुर सहित अनेक संस्थानों द्वारा आपको सम्मानित किया गया। महिला शिक्षा के प्रति आपकी गहरी रूचि है।  विप्र फाउंडेशन की स्कालर्स योजना आपने खूब सरहाया ओर शिक्षा प्रेरक के रूप में शामिल हुई तथा बीएसएफ की तरफ से सीमांत क्षेत्रो में शिक्षा का प्रसार भी किया।