बीकानेर। ऊर्जा एवं जनस्वास्थ्य अभियांत्रिकी मंत्री डाॅ. बुलाकी दास कल्ला ने कहा कि ईद उल अजहा का त्यौहार बीकानेर की सांझी संस्कृति का प्रतीक है। यह त्यौहार लोगों को सच्चाई की राह में अपना सब कुछ कुर्बान कर देने की सीख देता है। यह त्यौहार अजीम आस्था से जुड़ा हुआ है।

डाॅ.कल्ला सोमवार को नया शहर स्थित बड़ी ईदगाह में मुस्लिम भाइयों से गले मिलकर उन्हें ईद की मुबारकबाद दे रहे थे। उन्होंने कहा कि खुदा के हुक्म पर बड़ी से बडी़ कुर्बानी दिए जाने के लिए मन, वचन और कर्म से कृतसंकल्पित रहने वाले लोग, देश की एकता और अखंडता के लिए भी अपना सर्वस्व न्यौछावर करने के लिए तत्पर रहते हंै। प्रदेश व हमारे शहर की यह संस्कृति है कि इस त्यौहार को हर वर्ग के लोग आपसी भाईचारे व मेलजोल के साथ सहर्ष मनाते हैं।
इस अवसर पर बड़ी ईदगाह में उपस्थित सभी लोगों ने एक-दूसरे से गले मिलकर ईद की मुबारकबाद दी। इस दौरान जिला कलक्टर कुमार पाल गौतम, पुलिस अधीक्षक प्रदीप मोहन शर्मा, पूर्व आईपीएस मदन मेघवाल, नगर निगम आयुक्त डाॅ. प्रदीप के गवांडे, शहर काजी मुश्ताक अहमद, प्रशिक्षु आईएएस अभिषेक सुराणा, पूर्व न्यास अध्यक्ष हाजी मकसूद अहमद, एमजीएस विश्वविद्यालय के उप रजिस्ट्रार डाॅ. बिट्ठल बिस्सा, सुमित कोचर सहित बड़ी संख्या में गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।