बीकानेर। जिला कलक्टर कुमार पाल गौतम ने कहा कि बारिश के कारण शहर में कई स्थानों पर सीवरेज निर्माण के बाद जारी सड़क निर्माण कार्यों में लापरवाही सामने आई है। उन्होंने कहा कि अमृत और आरयूआईडीपी इन्हें गंभीरता से लेते हुए सम्बंधित ठेकेदार के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही अमल में लाए। गौतम ने सोमवार को कलक्ट्रेट सभागार में साप्ताहिक समीक्षा बैठक को सम्बोधित करते हुए यह निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि यदि खराब काम किया तो ठेकेदार का भुगतान नहीं किया जाए।

दो माह से लाॅगिन नहीं हुआ शिक्षा विभाग का सम्पर्क अंकाउट
जिला कलक्टर ने कहा कि सम्पर्क पोर्टल को शिक्षा विभाग के अधिकारियों द्वारा 2 माह से अधिक समय से लाॅगिन नहीं करने जैसी शिकायतें पाई गई हैं। इस तरह की लापरवाही करने पर जिला शिक्षा अधिकारी प्रारम्भिक तथा बीईओ पंाचू को चार्जशीट जारी करने के निर्देश दिए। उन्होंने तकनीकी शिक्षा विभाग के भी 44 प्रकरण 6 माह से अधिक समय तक बकाया रहने पर नोटिस जारी करने का आदेश दिया। जिला कलक्टर ने कहा कि सभी राजकीय कार्यालयों में लोक सेवा गारंटी अधिनियम व सुनवाई का अधिकार अधिनियम के तहत होने वोल कार्यों व समयबद्धता की सूचना चस्पा की जाए। गौतम ने कहा कि एक्ट के प्रावधानों की पालना कानूनी रूप से अनिवार्य है। अधिकारी इसे गंभीरता से लेते हुए कार्य करें।
जिला कलक्टर ने जिले में जलशक्ति अभियान के तहत प्रारम्भ हुए कार्यों की समीक्षा करते हुए दो दिन में शतप्रतिशत कार्यों में मस्टरोल जारी करवाने के निर्देश दिए। मनरेगा में सभी वांछित लोगों को आवश्यकतानुसार रोजगार मुहैया करवाना सुनिश्चित करने तथा प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत सभी कार्यों में मस्टरोल जारी करवाने के निर्देश दिए, जिससे मनरेगा के तहत लोगों को काम उपलब्ध करवाया जा सके।

एंटी लार्वा एक्टीविटी के निर्देश
मानसूनी बरसात के मद्देनजर जिला कलेक्टर ने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को डेंगू, मलेरिया के मामले में तुरंत कार्यवाही करने तथा पानी इकट्ठा होने वाले स्थानों पर एंटीलार्वा एक्टिविटी करवाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि मीजेल्स रूबेला अभियान के तहत सभी एएनएम को चार सप्ताह तक नियोजित कर प्रभावपूर्ण तरीके से अभियान सम्पन्न करवाया जाए। शहर के जिन स्थानों पर सीवरेज निर्माण का कार्य जारी हैं वहां पेयजल के नमूने नियमित रूप से लेकर जांच के लिए भिजवाए जाएं। जिला कलक्टर ने कहा कि बारिश के कारण आपदा प्रबंधन सहायता के तहत सड़क, पुल आदि मरम्मत के प्रस्ताव सभी विभाग शीघ्र भेंजे ताकि आवश्कतानुसार कार्यवाही कर लोगों को राहत प्रदान की जा सके। जिला कलक्टर ने भारतमाला योजना के तहत भुगतान की भी समीक्षा की।

बिजली चोरी की तो होगी एफआईआर
बीकेईएसएल के अधिकारी द्वारा शहर में बिजली चोरी की घटनाओं की शिकायत पर जिला कलक्टर ने निर्देश दिए कि कंपनी के अधिकारी ऐसे स्थान चिन्हित करें, इस सम्बंध पुलिस की मदद से कार्यवाही की जाएगी। साथ ही ऐसे व्यक्तियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई जाए।

जर्जर स्कूल भवनों की हो मरम्मत
जिला कलक्टर ने कहा कि बारिश के मौसम में जिले में कई सरकारी स्कूलों के भवनों की छत टपकने जैसी शिकायतें हैं। वहां अधिकारी सम्बंधित संस्थाप्रधान और शिक्षकों की जवाबदेही तय करें। बच्चों की सुरक्षा प्राथमिकता पर रखते हुए ऐसे भवन चिन्हित करते हुए जो भी तत्काल आवश्यक कार्यवाही किया जाना आवश्यक हो, की जाए। उन्होंने कहा कि टीचर बच्चों से अभिभावकों के भांति व्यवहार करे। उन्होंने सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग उपनिदेशक एल डी पंवार को छात्रावासों में पानी भराव, छत टपकने, दूषित भोजन या पेयजल जैसी शिकायत न मिलना सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। जिला कलक्टर ने नगर निगम आयुक्त को निर्देश दिए कि पेंशन सत्यापन के जो प्रकरण बकाया है , उसमें निगम के स्थानीय कार्मिकों की मदद लेते हुए सत्यापन कार्यवाही को शीघ्रातिशीघ्र पूरा किया जाए ताकि पात्र की पेंशन जारी कर राहत दी जा सके।

जिला कलक्टर ने जिले में टिड्डी पर पूर्ण नियंत्रण, पशुओं में रोग आदि की स्थिति में टीकाकरण के निर्देश दिए। उन्होंने पशुपालन विभाग द्वारा सभी गौशाला संचालकों को एडवाइजरी जारी कर अनुपालना सुनिश्चित करवाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि पशुपालन विभाग, परिवहन, पुलिस, नगर निगम के साथ मिल कर पशुओं पर रिफ्लेक्टर लगवाने की कार्यवाही करे ताकि पशुओं के सड़क पर आने के कारण होने वाली दुर्घटनाओं से बचा जा सके। बैठक में नगर निगम आयुक्त प्रदीप के गावंडे, भारतीय प्रशासनिक सेवा के प्रशिक्षु अधिकारी अभिषेक सुराणा, अतिरिक्त जिला कलक्टर (शहर) शैलेन्द्र देवड़ा, उपनिदेशक महिला एवं बाल विकास विभाग शारदा चैधरी, सहायक निदेशक लोक सेवाएं सबीना बिश्नोई सहित सम्बंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।