बीकानेर (हैलो बीकानेर न्यूज़)। बीकानेर एजुकेशन हब बन गया है तथा यहां आसपास के शहरों –  कस्बों से जो विद्यार्थी उच्च अध्ययन हेतु आते हैं उनके लिए पारिवारिक वातावरण से युक्त हॉस्टल की  बहुत जरूरत है  । इस जरूरत को पेस बॉयज हॉस्टल पूरी करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा , ऐसा विश्वास है ।

राजस्थान में किसकी सरकार बनेगी ?

गुरुवार को शिवबाड़ी चौराहे के पास पेस( परफेक्ट   अकोमेडेशन सेंटर फॉर एज्यूकेशन ) बॉयज हॉस्टल का उद्घाटन करते हुए साहित्य अकादमी नई दिल्ली में  राजस्थानी  भाषा परामर्श मंडल के  संयोजक  एवं पुरस्कृत वरिष्ठ साहित्यकार- पत्रकार  मधु आचार्य ‘ आशावादी ‘  ने ये विचार व्यक्त किए ।उन्होंने कहा कि हमारे यहां प्रतिभा की कमी नहीं है ।विभिन्न क्षेत्रों में यहां के युवा उपलब्धियां हासिल कर रहे हैं इसलिए तल्लीनता से अध्ययन करने के लिए ऐसे होस्टल होने बहुत जरूरी हैं ।

रा.वि.चु. 2018 में बीकानेर पश्चिम में इस बार कौनसी पार्टी जीतेगी ?

साहित्य अकादमी नई दिल्ली से पुरस्कृत प्रसिद्ध कवि- कथाकार मालचंद तिवाड़ी ने  मुख्य अतिथि के रूप में कहा कि पेस हॉस्टल में रहते हुए विद्यार्थियों को आत्मीयता और अपनत्व से ओतप्रोत माहौल मिलेगा जिससे वे अपनी आगे की पढ़ाई तथा प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी पूरी एकाग्रता के साथ कर सकेंगे ।

हॉस्टल के प्रबंध निदेशक इंजीनियर पवन शर्मा ने कहा कि   विद्यार्थियों के आवास और भोजन की  व्यवस्था का पूरा ध्यान रखा जाएगा ताकि वे  हॉस्टल में रह कर तन्मयता से अध्ययन करते हुए बेहतरीन परिणाम दे सकें ।
कवि – कथाकार राजेंद्र जोशी,  मैनेजमेंट गुरू डॉ. अजय जोशी,कवि – आलोचक डॉ. नीरज दइया, रेड क्रॉस सोसायटी के सचिव विजय खत्री, साहित्यकार चंद्रशेखर जोशी, बाल साहित्य लेखक  राम प्रकाश जोशी मन्नू,  श्री प्रकाश जोशी, सीए दीपक व्यास, सुनील व्यास, गौतम जोशी, मुकेश शर्मा,  श्याम सुंदर शर्मा, मदन गोपाल रामावत आदि ने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि जेएनवी कॉलोनी में  अनेक प्रमुख शिक्षण संस्थान हैं तथा इस क्षेत्र में विद्यार्थियों के आवास और भोजन की समुचित व्यवस्था के लिए ऐसे बॉयज हॉस्टल की आवश्यकता है ।

आरंभ में हॉस्टल के  संरक्षक साहित्यकार बुलाकी शर्मा ने सब का स्वागत करते हुए कहा कि हमारा ध्येय विद्यार्थियों को  पारिवारिक वातावरण  रहकर एकाग्रता से अध्ययन करने हेतु प्रेरित करने का रहेगा।
आभार प्रदर्शन समाजसेवी सत्यनारायण शर्मा ने किया ।