अलवर। दिनांक 06.09.2019 को विक्रम गुर्जर उर्फ पपला गैंग के सदस्य पुलिस थाना बहरोड पर हमला व फायरिंग कर विक्रम उर्फ पपला को फरार कर ले गये थे। पपला उर्फ विक्रम गुर्जर पुत्र मनोहरलाल निवासी खारोली, थाना महेन्द्रगढ, हरियाणा का कुख्यात गैंगस्टर है। जिसके विरूद्व 08 मुकदमें दर्ज है। जिनमें हत्या, अवैध हथियार के प्रकरण है। जिस पर हरियाणा पुलिस द्वारा 01 लाख रूपये का ईनाम भी घोषित किया हुआ है। 08 सितम्बर 2017 को महेन्द्रगढ न्यायालय से पपला उर्फ विक्रम गुर्जर को उसके साथी न्यायालय में फायरिंग करके हरियाणा पुलिस की हिरासत से भगा कर ले गये थे। तभी से ये फरार चल रहा था।

05-06 सितम्बर 2019 की दरमियानी रात्रि थाना बहरोड पुलिस द्वारा पपला उर्फ विक्रम गुर्जर एक स्कार्पियो व 31 लाख 90 हजार रूपये के साथ पकडा गया था। दिनांक 06.09.2019 की प्रातः 09 बजे उसकी गैंग द्वारा थाने पर हमला व फायरिंग कर उसे फरार करा लिया गया था।

अनिल पालीवाल, अतिरिक्त महानिदेषक पुलिस, एटीएस एवं एसओजी ने बताया कि 06 सितम्बर 2019 को थाना बहरोड से पपला उर्फ विक्रम गुर्जर को उसकी गैंग द्वारा थाने पर हमला व फायरिंग कर उसे फरार करा लिया था। जिसका अनुसंधान एसओजी द्वारा किया जा रहा है। फरार कराने के षड़यन्त्र मंे शामिल होने वाले विनोद स्वामी और कैलाषचंद को पूर्व में गिरफ्तार किया जा चुका है। प्रकरण के अग्रिम अनुसंधान में इस गैंग के तीन और अपराधियों को गिरफ्तार किया गया है, जो 1.जगन खटाणा पिता बनवारी लाल खटाणा, जाति गुर्जर, उम्र 22 साल, निवासी खरोला, थाना खेरथल, जिला अलवर 2. सुभाष पिता भरतसिंह, जाति गुर्जर, उम्र 21 साल निवासी तरवाला, थाना किषनगढबास, जिला अलवर हाल खरोला थाना खेरथल, जिला अलवर 3. महिपाल पुत्र लेखराज, जाति गुर्जर, उम्र 19 साल, निवासी खरोला, थाना खेरथल, जिला अलवर हैं। ये तीनों अभियुक्त भी पपला को पुलिस हिरासत से फरार कराने के षड़यन्त्र में शामिल थे। जिनसे अन्य मुल्जिमान के बारे में गहनता से अनुसंधान किया जा रहा है। अन्य अभियुक्तों की सरगर्मी से तलाष जारी है।

जगन खटाणा महिपाल गुर्जर सुभाष गुर्जर