बीकानेर की इन दो विधानसभा क्षेत्रों में होगा भाजपा की जन आक्रोश रैली का आयोजन

0
BJP
BJP




बीकानेर hellobikaner.com राज्य सरकार की विफलताओं और जनविरोधी नीतियों को लेकर भारतीय जनता पार्टी शहर जिला बीकानेर द्वारा प्रदेश नेतृत्व के निर्देशानुसार बीकानेर पूर्व और पश्चिम दोनों विधानसभा क्षेत्रों में जन आक्रोश यात्राओं का आयोजन किया जाएगा ।

 

जिलाध्यक्ष अखिलेश प्रताप सिंह ने बताया कि पूरे प्रदेश के 200 विधानसभा क्षेत्रों में जन आक्रोश यात्राओं और रैलियों का आयोजन किया जाएगा । सिंह के अनुसार हाल ही में आयोजित झुंझुनू प्रदेश कार्यसमिति बैठक में राज्य सरकार की जन विरोधी नीतियों, कुशासन, जंगल राज, प्रदेश भर में बढ़ती दलित अत्याचार और महिला दुष्कर्म की घटनाओं , किसान और बेरोजगारों से लगातार किये जा रहे छल, सरकार की  निरंतर तुष्टिकरण की नीति,  व्यापक भ्रष्टाचार आदि विषयों को लेकर जन आक्रोश यात्राओं की तैयारी के सम्बन्ध में व्यापक योजना पर चर्चा की गई।

 

सिंह ने बताया कि बीकानेर शहर में पार्टी की जन आक्रोश रैली के लिये जिला उपाध्यक्ष डॉ. भगवान सिंह मेड़तिया को जिला संयोजक बनाया गया है। इसी प्रकार बीकानेर पूर्व विधानसभा जनआक्रोश रैली के लिए चिकित्सा प्रकोष्ठ के जिला संयोजक डॉ. सिद्धार्थ असवाल और पश्चिम विधानसभा क्षेत्र के लिए युवा मोर्चा अध्यक्ष वेद व्यास को प्रभारी बनाया गया है। जन आक्रोश यात्रा की रूपरेखा और तैयारियों को लेकर आज सभी मण्डल अध्यक्षों द्वारा शहर के अंतर्गत आने वाले 80 वार्डों के रूट को अंतिम रूप दिया गया।

 

जनआक्रोश रैली के जिला संयोजक डॉ. भगवान सिंह मेड़तिया ने बताया कि जन आक्रोश यात्रा का शुभारम्भ 26 नवंबर को प्रदेश कार्यालय में प्रेस कॉन्फ्रेंस के साथ होगा । जिला स्तर पर  प्रेस कॉन्फ्रेंस का आयोजन 27 नवंबर को होगा । 1 दिसंबर को जिला स्तर पर जन आक्रोश रथ को विधिवत रूप से रवाना किया जाएगा।

 

डॉ. मेड़तिया ने बताया कि पूर्व और पश्चिम विधानसभा में एक साथ जन आक्रोश रथ सड़को पर निकलेगा । यात्रा के दौरान व्यापक जनसम्पर्क, 5 से 7 नुक्कड़ रैलियां , रात्रि चौपाल आदि आयोजन किये जाएंगे। मेड़तिया ने बताया कि प्रत्येक विधानसभा में यात्रा 10 दिन तक अभियान के रूप में रहेगी। इस कार्यक्रम में जनप्रतिनिधियों के अतिरिक्त पार्टी संगठन से जुड़े बूथ स्तर तक के सभी कार्यकर्ता शामिल रहेंगे। यात्रा को सफल बनाने के लिए मण्डल स्तर पर टोलियों के गठन का कार्य आरंभ किया जा चुका है।