सोमवार को शुरू होकर सोमवार को ही खत्म होगा सावन माह

इस वर्ष सालों बाद ऐसा संयोग बन रहा है जब सावन माह सोमवार से शुरू होकर सोमवार को ही खत्म होगा। सावन के पहले दिन ही शहर के सभी शिव मंदिरों में भगवान शिव का जलाभिषेक करने भक्तों की भारी भीड़ दिखाई देगी। वहीं आखिरी सोमवार को रक्षाबंधन का त्योहार मनाया जाएगा। इस दिन चंद्रग्रहण का साया होने और साथ ही भद्रा होने से रक्षा सूत्र बांधने के लिए मुहुर्तों का टोटा होगा।

पंडित तुलसी प्रसाद मिश्रा ने बताया कि 10 जुलाई को सावन माह शुरू हो रहा है और पहले ही दिन सोमवार है। इसके साथ ही सावन माह की समाप्ति सोमवार को ही होगी। उनका कहना है कि ऐसा संयोग सालों में एक बार बनता है। इस संयोग में भक्तों को भगवान शिवजी की आराधना करने पर विशेष फल की प्राप्ति होती है।

5 सावन सोमवार : अमूमन सावन माह में 4 सोमवार पड़ते हैं लेकिन इस बार पांच सोमवार का पड़ना भी शुभ संकेत माना जा रहा है। इस बार सावन माह 29 दिनों का होगा। पूर्णिमा पर चंद्रग्रहण का साया रहेगा। मकर राशि में खंडग्रास चंद्रग्रहण दिखाई देगा। चंद्रग्रहण का स्पर्श काल रात 10.53 बजे और मोक्ष रात्रि 12.48 बजे होगा। चंद्रग्रहण का सूतक तीन प्रहर पूर्व दोपहर 1 बजकर 53 मिनट से लगेगा। इस दिन सुबह 10.30 बजे तक भद्रा काल भी है इसलिए भद्रा काल समाप्त होने और सूतक लगने के पूर्व ही बहनें अपने भाइयों की कलाई में रक्षा सूत्र बांध सकेंगी। रक्षा सूत्र बांधने के लिए सुबह 10.39 के बाद और 1.53 तक का ही मुहूर्त शुभ है। वहीं 23 जुलाई को हरियाली अमावस्या किसान कृषि यंत्रों की साफ-सफाई कर पूजा-अर्चना करेंगे। इसके साथ ही तीज त्योहारों की शुरुआत हो जाएगी।

इन तिथियों में यह त्योहार

तिथि त्योहार

23 जुलाई हरियाली अमावस्या

26 जुलाई हरियाली तीज, झूला उत्सव

28 जुलाई नागपंचमी

7 अगस्त रक्षाबंधन

10 अगस्त कजली तीज

13 अगस्त हलषष्ठी

14 व 15 अगस्त कृष्ण जन्माष्टमी

21 अगस्त सोमवती अमावस्या

24 अगस्त हरतालिका तीज

25 अगस्त गणेश चतुर्थी

28 अगस्त नुआखाई

साभार : नई दुनिया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

*

code