नौवां स्व. कुसुम देवी डागा स्मृति घुटना दर्द निवारण शिविर में सैकड़ों पीड़ित हुए लाभान्वित

0



3 bharam bagichi me dhutna dard niwaran cump (8)3 bharam bagichi me dhutna dard niwaran cump (6)

फोटो राजेश छंगाणी

बीकानेर । मुक्ति संस्था , बीकानेर के तत्वावधान में नौवां स्व. कुसुम देवी डागा स्मृति घुटना दर्द निवारण शिविर शनिवार को स्थानीय ब्रह्म बगीचा नत्थूसर बास में आयोजित किया गया । शिविर के उद्घाटन सत्र के मुख्य अतिथि नगर निगम बीकानेर के महापौर श्री नारायण चौपड़ा एवं नगर विकास न्यास के अध्यक्ष महावीर रांका थे। अध्यक्षता पूर्व महापौर श्री भवानी शंकर शर्मा न की तथा कार्यक्रम के विशिष्ठ अतिथि समाजसेवी राजेश चूरा एवं भारत सेवक समाज के भंवर पृथ्वीराज रतनू थे ।
प्रारंभ में अतिथियों ने कुसुम देवी डागा के चित्र पर माल्यार्पण किया । दीप प्रज्ज्वलन कर कुसुम देवी डागा स्मृति घुटना दर्द निवारण शिविर का शुभांरभ किया ।
उद्घाटन अवसर पर कार्यक्रम के मुख्य अतिथि महापौर श्री नारायण चौपड़ा ने कुसुमदेवी डागा को नमन करते हुए कहा कि श्रीमति डागा के कारण ही अब तक पूर्व में आठ शिविर सफलतापूर्वक आयोजित कर सैकड़ों घुटना पीड़ितों को राहत दी गई हैं । श्री चौपड़ा ने कहा कि सेवा कार्यों को निरन्तर आयोजित किया जाना बहुत मुश्किल होता है , ऐसे में मुक्ति संस्था द्वारा हर वर्ष शिविर का आयोजन करना संस्था धन्यवाद की पात्र हैं । श्री चौपड़ा ने कहा कि पीड़ित मानव की सेवा करना , जरूरतमंद को राहत देना भगवान की अराधना करने जैसा कार्य हैं । उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में अधिकतर लोग घुटनों के दर्द से परेशान रहते हैं , जिन्हें इस तरह के आयोजनों के दौरान अनुभवी चिकित्सकों द्वारा जांच कर परामरर्श देकर दवाइ्र और नीः बेल्ट निःशुल्क वितरण किया जाना उपकार का कार्य हैं ।
कार्यक्रम के मुख्य अतिथि नगर विकास न्यास के महावीर रांका ने कहा कि जिस प्रकार श्रीमती कुसुम देवी डागा ने जीवनपर्यन्त मानव मात्र की सेवा का लक्ष्य रखते हुए सेवा कार्याे को अंजाम दिया उसी प्रकार हमें उनके बताए मार्ग पर चलते हुएा पीड़ित मानव की सेवा करनी चाहिए । श्री रांका ने कहा कि किसी के दर्द को समझकर उनके दर्द को समाप्त करना अथवा कम करने का महत्वपूर्ण कार्य गत शिविरों में हो रहें हैं । श्री रांका ने कहा यह नेक कार्य हमेशा भगवान की कृपा से ही होते हैं ।
कार्यक्रम के अध्यक्ष भवानीशंकर शर्मा ने कहा कि श्रीमती डागा की स्मृति को अक्षुण बनाएं रखने के लिए पीड़ित मानव की सेवा कार्य सबसे उत्तम सेवा हैं,व्यक्ति की पीड़ा को समाप्त करना अथवा कम करने सक आयोजको को भी संतुष्टि प्राप्त होती है।
विशिष्ठ अतिथि सामाजिक कार्यकर्ता राजेश चूरा एवं भंवर पृथ्वीराज ने कहा कि जन सेवा करने या करवाने का अराधना करने के बराबर कार्य होता हैं । उन्होंने कहा कि जन सहयोग से ऐसे कार्याे को प्राथमिकता देने वाली संस्थाऐं शहर में बहुत सीमित हैं ।
प्रारंभ में संस्था के अध्यक्ष श्री हीरालाल हर्ष ने स्वागत भाषण करते हुए गत शिविरों की रिपोर्ट प्रस्तुत की । महावीर इण्टरनेशनल के पूर्व पूर्व अध्यक्ष श्री महेन्द्र जैन , कार्यक्रम संयोजक एवं व्यापार मण्डल के कोषाध्यक्ष श्री घनश्याम लखाणी , पार्षद श्री हजारी देवड़ा , भल्ला फाउण्डेशन के अध्यक्ष श्री तोलाराम पेड़ीवाल ने भी संबोधित किया । वरिष्ठ चिकित्सक डॉ. हेमन्त व्यास , डॉ. सुभाष भास्कर , डॉ. अमित पुरोहित डॉ. आर एल चौधरी एवं डॉ. भारती पुरोहित ने घुटना पीड़ितों की जांच कर उचित परामर्श दिया। मुक्ति के समन्वयक श्री विष्णु शर्मा एवं श्री मांगीलाल भद्रवाल ने बताया कि शिविर में 400 घुटना पीड़ितो को निःशुल्क बेल्ट वितरण किए । शिविर में श्री विश्वेवर हर्ष, श्री बिन्दु रंगा, श्री अरविन्द मिढ्ढ़ा ,श्री अशोक सुथार, प्रो. अजय जोशी , श्री चन्द्रशेखर जोशी, श्री बृजगोपाल जोशी , श्री सुखदेव राठी, महावीर इंटरनेशनल के राष्ट्रीय सचिव संतोष बाठिया, पत्रकार संतोष जैन, पुरुषोत्तम राठी, बुलाकीदास व्यास, मो. साब्बीर, हरिकिशन जोशी, महावीर सांखला, राजाराम स्वर्णकार, अविनाश भार्गव सहित अनेक लोगों ने अपनी सेवाऐं प्रदान की । शिविर का संचालन संस्था सचिव श्री राजेन्द्र जोशी ने किया ।