भाजपा तीन चौथाई बहुमत से सरकार बनाएगी- पूनियां

0
hellobikaner.in




जयपुर hellobikaner.com राजस्थान के भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रदेश अध्यक्ष डा सतीश पूनियां ने कांग्रेस पर जोड़ने का पाखंड करने का आरोप लगाते हुए दावा किया है कि भाजपा एवं इसके विचार वास्तविक रूप से जोड़ने का काम करते हैं और अगले वर्ष विधानसभा चुनाव में भाजपा तीन चौथाई बहुमत से सरकार बनाएगी।

 


डा पूनिया झुंझुनूं के चुड़ैला गांव में हुई भाजपा प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में अध्यक्षीय उद्बोधन में आज यह बात कही। उन्होंने कहा “हम, हमारे नेता, हमारा संगठन और हमारा विचार वास्तविक रूप से जोड़ने का काम करते हैं।
इसलिए झुंझुनू की इस पुरुषार्थी धरती पर हम लोग आए हैं। जबकि कांग्रेस के लोग जोड़ने का पाखंड करते हैं। “

 


उन्होंने कहा कि वर्ष 2023 में हमेशा के लिए राजस्थान में भाजपा की विजय का आगाज कार्यकर्ताओं के परिश्रम से होगा, क्योंकि भाजपा का प्रत्येक कार्यकर्ता एक योद्धा बनकर प्रदेश की अराजक कांग्रेस सरकार से लड़ रहा है। प्रदेश के 52 हजार बूथों में से 48 हजार बूथों पर फोटोयुक्त बूथ समिति का गठन पूर्ण हो चुका हैऔर अगले वर्ष विधानसभा चुनाव में भाजपा तीन चौथाई बहुमत हासिल कर सरकार बनायेगी। उन्होंने कहा कि इसके लिये प्रदेश का हर एक भाजपा कार्यकर्ता पूरी मेहनत कर रहा है। हमारा संगठन पूरी तरह सक्रियता से काम कर रहा है।

 


उन्होने कहा कि प्रदेश के लोग अब नयी भूमिका की प्रतीक्षा कर रहे है। आज हमारे सामने सबसे गंभीर परीक्षा है। गत चार वर्षों में व्याप्त अराजकता, भ्रष्टाचार व अकर्मण्यता में आकंठ निमग्न कांग्रेस सरकार ने प्रदेश को गहरी निराशा व जनसामान्य को आक्रोश से भर दिया है।

 


डा पूनिया ने कहा कि घोषणाएं करना और योजनाएं लाना लोकतंत्र में हर राजनीतिक दल का दायित्व है। राजधर्म कहता है कि ये घोषणाएं खोखली न होकर पूरी हों। राजधर्म कहता है कि ये जनहित के लिए हों, राजहित के लिए नहीं। यह वर्तमान कांग्रेस सरकार की व्यवस्था की सबसे गंभीर त्रासदी है कि वह दोनों ही में और दोनों ही से बस स्वार्थ साध रहा है। कांग्रेस सरकार ने जितने बड़े उद्घोष के साथ योजनाएं लागू कीं, उससे भी बड़े स्वार्थ के साथ भ्रष्टाचार किया।


डा पूनिया ने स्वीकार करते हुए कहा कि कुछ उपचुनावों में हमारी कुछ रणनीतिक कमजोरी तथा सहानुभूति की लहर के कारण कांग्रेस को बोलने का अवसर जरूर मिला। लेकिन हमने उसकी भरपाई पंचायती राज विशेषकर जिला परिषद में बहुमत हासिल करके पूरी कर ली और पहली बार किसी विपक्षी दल (भाजपा) के 33 में से 19 जिला प्रमुख बने।