महाराजा गंगासिंह विवि में कैम्पस डायलॉग कार्यक्रम 11 मई को

0



कैम्पस डायलॉग कार्यक्रम 11 मई को शाम चार बजे होगा।

कैम्पस डायलॉग कार्यक्रम में बीकानेर शहर के लगभग चार सौ गणमान्य लोग आमंत्रित होंगे।

हैलो बीकानेर,। विश्वविद्यालय में शैक्षणिक उन्नयन एवं आधारभूत विकास की अवधारणा को ध्यान में रखते हुए विश्वविद्यालय परिवार की ओर से दिनांक 11 मई 2017 (गुरुवार) को 04ः00 बजे प्रशासनिक भवन, महाराजा गंगा सिंह विश्वविद्यालय, बीकानेर में Campus Dialogue किया जा रहा है। विश्वविद्यालय विकास के लिए क्षेत्र के शैक्षणिक, सामाजिक, राजनैतिक, साँस्कृतिक एवं विभिन्न क्षेत्रों में अपनी पहचान रखने वाले बीकानेर के गणमान्य नागरिकों के साथ संवाद कार्यक्रम के माध्यम से कार्य-योजना (Road Map) तैयार करने हेतु इस कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। विश्वविद्यालय स्थापना से वर्तमान तक विश्वविद्यालय अपने शैश्व काल से गुजर रहा है, विश्वविद्यालय को पूर्ण रुप से शैक्षणिक उन्नयन का केन्द्र बनाने एवं जिन उद्देश्यों को लेकर विश्वविद्यालय की स्थापना की गई थी, उन उद्देश्यो को प्राप्त करने के लिए ऐसे कार्यक्रमों की उपादेयता रहती है। क्षेत्र के लोगो एवं विश्वविद्यालय परिवार के बीच संवाद से एक नई दिशा एवं सोच मिलेगी, जिससे हम सबके सपनों का विश्वविद्यालय बन सकें।

unnamed (10)पत्रकारों से बातचीत में महाराजा गंगासिंह विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो.भगीरथसिंह ने यह कहा कि विश्वविद्यालय में रोजगारोन्मुखी पाठ्यक्रमों को प्रारम्भ किया जाए तथा जन मानस के सहयोग से विश्वविद्यालय में अध्ययन करने हेतु छात्रों को प्रोत्साहित किया जावे ताकि विश्वविद्यालय शैक्षणिक क्षेत्र में नवीन आयाम स्थापित कर सके। विश्वविद्यालय अपनी ओर से सभी आधारभूत सुविधा, शिक्षा, शोध को उत्कृष्ट मानकों पर स्थापित करने के लिए नवीन नवाचार, नई सोच, समाज की मांग अनुरूप अध्यापन कराने के लिए प्रतिबद्व हैं। प्रबुद्ध नागरिकों से आशा है कि वे छात्रों को विश्वविद्यालय अध्ययन के लिए प्रोत्साहित करे। हमारी अपेक्षा है कि यह नागरिक मंच विश्वविद्यालय के साथ संघटक महाविद्यालय को जोड़ने एवं नये पाठ्यक्रम जो स्थानीय आवश्यकता, परिस्थितियों एवं काल को ध्यान में रखते हुए आज तक जिसकी मांग विश्वविद्यालय द्वारा समय-समय पर की जाती रही है, इसमें वैचारिक रूप से सहयोग देवे।

कुलपति ने यह कहा विश्वविद्यालय परिसर में पानी जैसी आधारभूत मूलभूत आवश्यकता के सम्बन्ध में भी विश्वविद्यालय ने स्वयं के खर्च पर आवश्यक मात्रा में पानी उपलब्ध कराने हेतु भी राज्य सरकार से अनुरोध किया गया है, जिस पर भी आपके नैतिक समर्थन की आवश्यकता है। इसी प्रकार विश्वविद्यालय में अध्ययनरत छात्रों हेतु सार्वजनिक परिवहन की सुविधा, राष्ट्रीय राजमार्ग पर डिवाइडर की व्यवस्था की जानी भी आवश्यक है जिससे आकस्मिक दुर्घटना से बचा जा सकें।